Wednesday , April 17 2024

टीबी कर्मियों ने रखीं पांच मांगें, पूरी न हुईं तो करेंगे जापानी तरीके से हड़ताल

-टी बी कंट्रोल इम्प्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन का प्रदेश स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। टीबी कंट्रोल इम्‍प्‍लाइज वेलफेयर एसोसिएशन ने स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत सभी संविदा कर्मियों का गत 5 वर्षो से लंबित सामूहिक बीमा योजना को अविलंब लागू किया जाने सहित पांच मांगें रखी हैं। एसोसिएशन ने कहा है कि यदि हमारी मांगें न मानी गयीं तो जापानी तरीके से हड़ताल की जायेगी।

13 अगस्त को टी बी कंट्रोल इम्प्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन का प्रदेश स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन विश्व संवाद केंद्र लोहिया पथ लखनऊ में आयोजित किया गया। जिसमे प्रदेश के समस्त जिलों के पदाधिकारियों की बैठक आयोजित की गई जिसमें पांच सूत्रीय मांगों को पूरा करने की मांग करने का निर्णय लिया गया। इन पांच बिंदुओं में 1- स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत सभी संविदा कर्मियों का गत 5 वर्षो से लंबित सामूहिक बीमा योजना को अविलंब लागू किया जाए 2- सभी संविदा कर्मियों को पंडित दीन दयाल उपाध्याय कर्मचारी बीमा योजना का लाभ प्रदान किया जाए 3- सभी संविदा कर्मियों को 10,15,20 वर्ष की नौकरी पूर्ण करने पर लायल्टी बोनस दिया जाए, 4- क्षेत्रीय भ्रमण के लिए दिए जा रहे POL की धनराशि को वेतन में जोड़कर दिया जाए तथा 5- सविदा कर्मियों के वेतन को पुनरीक्षित किए 10 वर्ष हो चुके है, इनके वेतन पुनरीक्षण का कार्य शुरू किया जाए।

इस अवसर पर प्रदेश संयोजक संजय यादव ने बताया कि कितना दुखद है कि जो संविदा कर्मचारी अन्य लोगों का आयुष्मान कार्ड बनाता है लेकिन उसका खुद की कोई सामाजिक सुरक्षा नहीं है और न ही अपना आयुष्मान कार्ड भी बना सकता है।

प्रदेश अध्यक्ष सुनैना ने सम्बोधित करते हुए कहा कि यदि अधिकारी कर्मचारियों की उक्त मांगों को नहीं मानते हैं तो इस बार जापानी तरीके से हड़ताल की जाएगी, इसके अनुसार मरीज हित मे कार्य तो करेंगे लेकिन सरकार के पोर्टल पर रिपोर्टिंग नहीं करेंगे।

मीटिंग में वरिष्ठ उपाध्यक्ष अजय सक्सेना, विजय मौर्या, आशुतोष मिश्रा, एम पी चावला, जगवीर सिंह, राकेश दुबे, के पी सिंह,
तथा संयुक्त एनएचएम संघ के महामंत्री योगेश उपाध्याय ने बताया कि 27 सितम्बर को भारतीय मजदूर संघ के आवाहन पर पूरे प्रदेश के संविदा स्वास्थ्य के लाखों कर्मचारी लखनऊ में अपनी मांगों के समर्थन में एकत्र होगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.