Tuesday , November 30 2021

छह मेडिकल कॉलेज टेलीमेडिसिन के जरिये जुड़ेंगे पीजीआई से, पावर ग्रिड कॉरपोरेशन के साथ करार

-संजय गांधी स्‍नातकोत्‍तर आयुर्विज्ञान संस्‍थान के स्‍थापना दिवस में मुख्‍यमंत्री ने की घोषणा

-कोविड काल के चलते सीमित संख्‍या में लोगों की भौतिक उपस्थिति में मनाया गया समारोह

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 महामारी के परिप्रेक्ष्य में टेलीमेडिसिन सुविधाओं की उपयोगिता की सराहना करते हुए पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के साथ एमओयू की घोषणा की। इसके तहत उत्तर प्रदेश राज्य के छह मेडिकल कॉलेजों में टेलीमेडिसिन की सुविधाएं प्रदान की जाएंगी, इन्‍हें संजय गांधी पीजीआई से जोड़ा जायेगा, जिससे वहां भी वर्चुअल आईसीयू की व्यवस्था बनाई जा सके और कोविड-19 जैसी किसी भी महामारी का सर्वोत्तम प्रबंधन किया जा सके।

योगी आदित्‍यनाथ ने यह घोषणा आज संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान के 37वें स्‍थापना दिवस पर संस्‍थान में आयोजित समारोह में मुख्‍य अतिथि के रूप में सम्‍बोधित करते हुए की। मुख्‍यमंत्री की इस घोषणा के बाद मुख्‍यमंत्री की मौजूदगी में एसजीपीजीआई और पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के बीच एक एमओयू पर हस्‍ताक्षर किये गये।

स्‍थापना दिवस समारोह के अवसर पर संस्थान के निदेशक प्रोफेसर आर के धीमन ने उपस्थित अतिथियों का स्वागत किया और संस्थान की प्रगति रिपोर्ट का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया। संस्थान के डीन प्रोफेसर एस के मिश्रा ने समारोह के व्याख्याता प्रोफेसर बलराम भार्गव महानिदेशक आईसीएमआर का औपचारिक परिचय दिया।

प्रोफेसर बलराम भार्गव ने अपने व्‍याख्‍यान में कहा कि कोविड-19 महामारी के समय में की गई तैयारियों से इस बीमारी को वैज्ञानिक रूप से नियंत्रित करने में हम सफल रहे हैं। उत्तर प्रदेश सरकार के चिकित्सा शिक्षा वित्त और संसदीय मामलों के मंत्री सुरेश खन्ना ने संस्थान की स्थापना वर्ष से लेकर आज तक हुई प्रगति के लिए संस्थान परिवार के सभी सदस्यों के योगदान की प्रशंसा की।

इस अवसर पर संस्थान परिवार के अनेक सदस्यों को विभिन्न श्रेणियों में डॉक्‍टर्स (DM, MCh, MD), स्टाफ नर्स व तकनीशियन को उनके योगदान के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा सम्मानित किया गया। सर्वोत्कृष्ट शोध कार्यों के लिए 11 पुरस्कार भी दिए गए। कोविड प्रतिबंधों के कारण सीमित संख्या में अतिथियों को आमंत्रित किया गया था। संस्थान के अन्य सभी संकाय, रेजिडेंट और स्टाफ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा इस समारोह में शामिल हुए। संस्थान के डीन प्रोफेसर एस के मिश्रा द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया। समारोह का समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ।

क्लिक करके पढि़ये किन रेजिडेंट डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ, टेक्नीशियंस तथा शोधार्थियों को किया गया सम्‍मानित

जारी विज्ञप्ति के अनुसार संस्थान के स्थापना दिवस समारोह के अनेक कार्यक्रम प्रातः से ही प्रारंभ हो गए थे। प्रातः काल में वृक्षारोपण कार्यक्रम हुआ जिसमें निदेशक प्रोफेसर आर के धीमन, डीन प्रोफेसर एस के मिश्रा, डॉ वी के कपूर, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ अमित अग्रवाल और डॉ आदित्य कपूर और अन्य सभी सदस्यों ने वृक्षारोपण किया, जिसमें गुलमोहर, हरसिंगार और पारिजात के लगभग 60 पेड़ लगाए गए। अस्पताल में भर्ती मरीज भी इस समारोह का एक महत्वपूर्ण हिस्सा थे। अस्पताल परिसर में भर्ती रोगियों को फल और शुभकामना कार्ड वितरित  किये  गए।

इस अवसर पर संस्थान के ब्लड बैंक द्वारा स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया गया, जिसमें 25 लोगों ने रक्तदान किया। संस्थान में  नियमित रक्तदान करने वाले स्‍टाफ राम शरण, डीके सिंह व शशांक शिंदे भी इस रक्तदान शिविर में शामिल हुए।