Wednesday , July 6 2022

फार्मासिस्‍टों के आंदोलन को विभिन्‍न संघों वाले फार्मेसिस्‍ट फेडरेशन उत्‍तर प्रदेश का समर्थन

-आंदोलनकारी फार्मासिस्‍टों के खिलाफ कुछ कार्रवाई हुई तो 12 अन्‍य फार्मासिस्‍ट संघ भी उतरेंगे मैदान में

-सातवें दिन भी दो घंटा कार्यबहिष्‍कार जारी,  अस्‍पतालों में बाधित रहीं सेवायें

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के विभिन्न विभागों एवं विभिन्न संस्थानों में कार्यरत अलग-अलग विधाओं के फार्मेसिस्टों के संयुक्त संगठन ‘फार्मेसिस्ट फेडरेशन उत्तर प्रदेश’ ने डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन के आंदोलन को समर्थन दिया है।

फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील यादव, महामंत्री अशोक कुमार ने बताया कि आज फार्मेसिस्ट फेडरेशन से जुड़े सभी संघों के पदाधिकारियों की वर्चुअल बैठक की गई, जिसमें सरकार द्वारा फार्मेसिस्टों की मांगों को अनदेखा किए जाने की निंदा की गई और लगातार 7 दिनो से कार्य बहिष्कार के बावजूद सरकार द्वारा कोई वार्ता, समाधान न किये जाने को कर्मचारियों के प्रति अनुचित व्यवहार बताया। फेडरेशन का कहना है कि उत्तर प्रदेश के पशुपालन विभाग,  आयुर्वेद एवं यूनानी विभाग, होम्योपैथ विभाग,  कारागार विभाग,  समाज कल्याण,  श्रम, ईएसआई, के जी  मेडिकल यूनिवर्सिटी, सैफई आयुर्विज्ञान संस्थान, पीजीआई आयुर्विज्ञान संस्थान, लोहिया संस्थान, कारागार विभाग एवं संविदा फार्मेसिस्ट संघ ने डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन को समर्थन देने के लिए बैठक में अपनी सहमति दी है। फेडरेशन का कहना है कि अगर सरकार द्वारा मांगे नहीं मानी जाती हैं अथवा कर्मचारियों के विरुद्ध कोई भी प्रतिकूल कार्रवाई  की जाती है तो फेडरेशन से जुड़े सभी 12 संघों के हजारों सदस्य आंदोलन में उतर जाएंगे  ।

बैठक में महामंत्री अशोक कुमार, संयोजक के के सचान, वेटनरी संघ के अध्यक्ष पंकज मिश्रा, मंत्री शारिक अली, आयुर्वेद के महामंत्री आनंद सिंह, ईएसआई के अध्यक्ष उदयराज यादव, महामंत्री संजीव मित्तल, समाज कल्याण  के अध्यक्ष ए आर कौशल, लोहिया संस्थान में अध्यक्ष अशोक परिहार, पीजीआई के अध्यक्ष दिनेश चंद्र, सैफई से स्थान में अध्यक्ष राजीव यादव, संविदा के अध्यक्ष प्रवीण  यादव आदि उपस्थित रहे ।

वही डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष संदीप बडोला एवं महामंत्री उमेश मिश्रा ने बताया कि आज भी उत्तर प्रदेश में सरकार की संवेदनहीनता के कारण 2 घंटे का कार्य बहिष्कार जारी रहा जो कल भी जारी रहेगा । इसके बाद भी अगर मांगें नहीं मानी जाती है तो फार्मेसिस्ट पूर्ण कार्य बहिष्कार के लिए विवश है लखनऊ शाखा की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार के सभी विभागों के मुखिया को कमर्चारियों की समस्याओं के निराकरण के स्पष्ट आदेश होने के बावजूद आला अधिकारियों द्वारा व प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री की उदासीनता के चलते मरीज लाचार व स्वास्थ्य सेवा बेहाल हैं।

प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में फार्मासिस्टों की लगातार चल रहे 2 घंटे के कार्यबहिष्कार से अस्पतालों में मरीजों को दवा लेने के लिए घंटों लाइन में खड़ा रहना पड़ रहा है। दरअसल प्रदेश के फार्मासिस्टों द्वारा लगातार कई दिनों से जारी सांकेतिक व क्रमिक हड़ताल के तहत सरकार द्वारा उनकी वेतन विसंगतियों, पदनाम परिवर्तन, राईट टू प्रेस्क्रिप्शन, कैडर पुनर्गठन, मानक अनुसार अस्पतालों,सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों,प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर नियुक्तियों सहित 20 सूत्रीय मांगों पर उदासीनता व अड़ियल रवैया अपनाए जाने के कारण  स्वास्थ्य सेवाएं बेपटरी होती जा रही हैं।जो कि‍ आगे 17 दिसम्बर से 19 दिसंबर को इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर पूर्ण कार्यबहिष्कार व 20 दिसम्बर से ईमरजेंसी सेवाओं सहित पूर्ण कार्यबहिष्कार के चलते स्वास्थ्य सेवाएं पूर्ण रूप से ठप्प हो सकती हैं जिसे रोकना अब सरकार के हाथों में है।

इसी क्रम में डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के फार्मासिस्टों ने प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में अपनी 20 सूत्रीय मांगों के सापेक्ष उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य मंत्री द्वारा अड़ियल रवैया अपनाए जाने के विरोध में आज आंदोलन के 12वें दिन भी 2 घंटे का बहिष्कार व जोरदार प्रदर्शन कर विरोध जताया गया। प्रदेश अध्यक्ष संदीप बडोला के नेतृत्व में बलरामपुर चिकित्सालय में प्रान्तीय कोषाध्यक्ष अजय पाण्डेय, डी पी ए जनपद शाखा लखनऊ अध्यक्ष अरुण अवस्थी, कार्यकारी अध्यक्ष कपिल वर्मा, राजेश वरुण  व बलरामपुर अस्पताल में तैनात प्रदेश संरक्षक के के सचान व पूर्व महामंत्री श्रवण सचान, पूर्व प्रान्तीय कोषाध्यक्ष रजत यादव, सुभाष श्रीवास्तव, संजय कनौजिया,संयुक्त मंत्री विवेक श्रीवास्तव,  संप्रेक्षक जितेंद्र कुमार, पंकज रस्तोगी, निशा तिवारी, मंजुलता, सुनीता सचान, संगीता वर्मा, सुनीता यादव, महेंद्र यादव,अब्दुल रहमान, निशा तिवारी, आर पी सिंह, दयाशंकर त्यागी, डी के श्रीवास्तव व अन्य सभी साथियों ने सुबह 8 बजे से 10 बजे तक 2 घंटे के कार्यबहिष्कार की कमान संभाली।

डी पी ए जनपद लखनऊ संगठन मंत्री अविनाश सिंह के नेतृत्व में सी एच सी गोसाईं गंज में हनुमान प्रसाद वर्मा,अकील अंसारी,आर बी मौर्या, राम सुमित्र पटेल,अखिलेश ओझा,अतुल श्रीवास्तव, कन्हैयालाल, व जनपद लखनऊ कोषाध्यक्ष चंद्रशेखर श्रीवास्तव,जोरदार प्रदर्शन व 2 घण्टे कार्य बहिष्कार कर विरोध प्रदर्शन किया।

सिविल अस्पताल में  डी पी ए उत्तर प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष सुनील यादव के नेतृत्व में,रजनीश पांडेय,जी सी दुबे,ओ पी पटेल,श्रवण चौधरी, सलिल श्रीवास्तव, पंकज श्रीवास्तव,सुधाकर शर्मा,रंजीत गुप्ता आदि साथियों ने कमान संभाली।

लोकबंधु अस्पताल में सी एल शांति के नेतृत्व में मोहम्मद अजमल,सरोज सिंह,संजुलता श्रीवास्तव,गिरिजेश यादव,प्रतिभा पटेल,मालिहाबाद सी एच सी से कमलेश वर्मा,सी एच सी सरोजनी नगर में जनपद लखनऊ वरिष्ठ उपाध्यक्ष आर बी मौर्या के नेतृत्व में राजेश गौतम,सुनील मिश्रा,कमलकांत वर्मा ,अनिल त्रिपाठी सी एच सी मोहनलालगंज से अनिल सचान के नेतृत्व में अरविंद वर्मा,अनीता अवस्थी,विकाश शर्मा,रविन्द्र परिहार, आनंद कुशवाहा,सी एच सी इटौंजा से डी पी ए लखनऊ मंत्री अखिल सिंह के नेतृत्व में अशोक गुप्ता,काज़ी इरसाद सहित सभी फार्मासिस्टों ने जोरदार प्रदर्शन किया

डफरिन से जसवंत सिंह के नेतृत्व में,अरविंद तिवारी पवन शर्मा टी बी अस्पताल से रामेंद्र सिंह,राजेश कोहली,कल्पना सचान,जितेंद्र कुमार पटेल सहित सभी फार्मासिस्ट/चीफ फार्मासिस्ट साथियों ने कमान संभाली।

साथ ही जनपद लखनऊ के सभी सामु०स्वा०केंद्र व प्रा०स्वा०केंद्रों पर तैनात सभी फार्मासिस्ट/चीफ फार्मासिस्ट साथियों द्वारा 2 घंटे का कार्य बहिष्कार करते हुए जमकर नारेबाजी करते हुए सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

डी पी ए जनपद शाखा लखनऊ के कार्यकारी अध्यक्ष कपिल वर्मा द्वारा संवर्ग के सभी फार्मेसिस्ट/चीफ फार्मासिस्ट साथियों द्वारा 12वें दिन भी भारी संख्या में अपने अपने कार्यस्थल पर 2 घंटे का कार्य बहिष्कार करते हुए अपना विरोध दर्ज कराने के लिए सभी साथियों का आभार व्यक्त किया गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve − 8 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.