Monday , May 20 2024

कुपोषण दूर करने में कारगर हैं मोटे अनाज : डॉ सूर्यकान्त

-कुपोषण, धूम्रपान और डायबिटीज हैं टीबी के लिए बड़े खतरे

-केजीएमयू के रेस्पिरेटरी विभाग ने मनाया विश्‍व टीबी दिवस

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग में आज विश्व टीबी दिवस समारोह का आयोजन किया गया। प्रतिवर्ष 24 मार्च को पूरी दुनिया में विश्व टीबी दिवस मनाया जाता है क्योंकि 24 मार्च 1882 को डॉ0 राबर्ट कोच नाम के जर्मनी के चिकित्सक ने टीबी के जीवाणु की खोज की थी। इसके लिए उन्हें 1905 में नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 

इस अवसर पर विभागाध्यक्ष डॉ0 सूर्यकान्त ने बताया कि भारत को टी0बी0 से मुक्त करने के लिए 2025 का लक्ष्य रखा गया है। इस वर्ष 24 मार्च 2023 को वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेन्टर में एक अखिल भारतीय कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है, जिसे भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सम्बोधित करेंगे। इस कार्यक्रम में भारत के स्वास्थ्य मंत्री, उप्र के मुख्यमंत्री एवं उप्र के राज्यपाल भी उपस्थित रहेंगे। इस कार्यक्रम में विभागाध्यक्ष डॉ0 सूर्यकान्त व स्टेट टीबी ऑफिसर भी मौजूद रहेंगे, इस कारण से विश्व टीबी दिवस विभाग में आज ही मनाया गया।

इस अवसर पर सभी चिकित्सकों, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, टीबी रोगियों एवं परिजनों को सम्बोधित करते हुए राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन के नॉर्थ जोन टास्क फोर्स के चेयरमैन डॉ सूर्यकान्त ने बताया कि कुपोषण, धूम्रपान तथा डायबिटीज टीबी रोग के लिए बहुत बड़े खतरे हैं। उन्होंने यह भी बताया कि कुपोषण दूर करने के लिए मोटे अनाजों की महत्वपूर्ण भूमिका है। ज्ञात रहे कि वर्ष 2023 को मोटे अनाज वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। भारत के प्रधानमंत्री मोदी जी ने मोटे अनाज को ’’श्री अन्न’’ की उपमा दी है। डॉ सूर्यकान्त ने बताया कि जहां मोटे आनाजों से पोषण मिलता है व शरीर की रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है, वहीं फास्ट फूड से कुपोषण बढ़ता है एवं शरीर की रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। उन्होनें इस अवसर पर टीबी के मरीजों एवं परिजनों से कहा कि टीबी उन्हीं को होती है जिनका पोषण एवं शारीरिक प्रतिरोधक क्षमता कम होती है, इसलिए सभी को मोटे अनाज का सेवन करना चाहिए। 

इस मौके पर विभाग के समस्त चिकित्सकगण डॉ एसके वर्मा, डॉ संतोष कुमार, डॉ राजीव गर्ग, डॉ दर्शन कुमार बजाज, डॉ आनन्द श्रीवास्तव, डॉ अंकित कुमार एवं समस्त सीनियर एवं जूनियर रेजिडेन्ट्स सहित समस्त स्टाफ एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ता, रोगी एवं उनके परिजन उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.