Sunday , October 24 2021

अपनी मांगों के समर्थन में औषधीय पौधों का रोपण करेंगे आयुष फार्मासिस्‍ट

-विश्‍व पर्यावरण दिवस पर 5 जून को किया जायेगा आयोजन   

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। आयुष फार्मासिस्ट संघ द्वारा अपनी मांगों के समर्थन में चलाये जा रहे आंदोलन के क्रम में आगामी 5 जून को विश्‍व पर्यावरण दिवस के मौके पर औषधीय दृष्टिकोण से महत्‍वपूर्ण पौधों को रोपित किया जायेगा।   

यह निर्णय आज 3 जून को वर्चुअली आयोजित बैठक में लिया गया। संघ के प्रदेश अध्यक्ष अम्मार जाफ़री ने इस बैठक के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि संघ द्वारा अपनी मांगों के समर्थन में प्रदेश स्तर पर चलाये जा रहे काली पट्टी आंदोलन को ओर अधिक तेज करने के लिये पर्यावरण दिवस 5 जून को अस्पताल या घर पर एक एक औषधीय महत्व के पौधे ( गिलोय, तुलसी, एलोवेरा, नीम, सहजन ) आदि का रोपण कर इसका सघन अभियान चलाने का भी निर्णय लिया गया।

संघ के महामंत्री देवेंद्र कुमार ने वर्तमान परिपेक्ष्य में आयुष फार्मासिस्ट की मुख्य मांगों का विस्तृत ब्यौरा देते हुये बताया कि आयुष फार्मासिस्टों की वरिष्ठता सूची बनाते हुए समायोजन, कोरोना काल को देखते हुए 1678 mo-ch के सापेक्ष 1678 आयुष फार्मासिस्ट के पदों का सृजन, आयुष फार्मासिस्टों की वेतन विसंगति दूर करते हुए एलोपैथ फार्मासिस्ट के समकक्ष मानदेय,  चीफ फार्मासिस्टों के पदों का सृजन, प्रदेश भर में आयुष विंग्‍स में पंचकर्म हिजामा शुरू करते हुए उपचारिकाओं की नियुक्ति, कोविड19 को देखते हुए आयुष फार्मासिस्ट एवं आयुष उपचारिकाओं की समस्त रिक्त पदों पर अविलम्ब भर्ती तथा आयुर्वेद/यूनानी औषधियों की गुणवक्ता के लिए प्राइवेट सेक्टर में मेडिकल स्टोर एवं औषधि निर्माणशालाओं में फार्मासिस्ट की अनिवार्यता की जाना शामिल है।

बैठक में संघ के महामंत्री देवेंद्र कुमार, संगठन मंत्री अमित तिवारी, उपाध्यक्ष राजेश सक्सेना, कर्म प्रवीण चौबे, अजय सिंह आज़ाद, कोषाध्यक्ष आलोक कुमार, प्रियंका, अशोक यादव, आशीष वर्मा, मोहन सिंह, मीडिया प्रभारी साबिर हुसैन ने भी अपने-अपने विचार रखे, महासंघ की अगली वर्चुवल बैठक आगामी 19 जून को पुनः होगी, जिसमें zoom ऐप के माध्यम से और अधिक पदाधिकारियों को जोड़ा जायेगा, एवं ज़िला कार्यकारि‍णी बनायी जाएगी, जिसकी जिम्मेदारी संगठन मंत्री अमित तिवारी को सौपी गई है।