Tuesday , August 23 2022

सभी चिकित्‍सा शिक्षा संस्‍थानों के सीनियर चिकित्‍सकों को रोज कोविड वार्ड का राउंड लेना अनिवार्य

-सबूत के तौर पर प्रतिदिन शाम 6 बजे तक फोटो या वीडियो सहित चिकित्‍सा शिक्षा के कंट्रोल रूम भेजना होगा ई मेल

-प्रदेश की मेडिकल यूनिवर्सिटीज तथा सरकारी व निजी मेडिकल कॉलेजों को भेजा गया पत्र

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। प्रदेश की मेडिकल यूनिवर्सिटीज तथा सरकारी व निजी मेडिकल कॉलेजों के वरिष्‍ठ चिकित्‍सकों को कोविड वार्ड में मरीजों को देखने जाना अनिवार्य कर दिया गया है, यही नहीं वरिष्‍ठ चिकित्‍सकों द्वारा मरीजों को देखने जाने का वीडियो या फोटो प्रतिदिन चिकित्‍सा शिक्षा कंट्रोल रूप के मेल पर भेजना भी होगा।

वैश्विक महामारी को 2019 के खिलाफ चल रही जंग के बेहतर परिणाम मिलें, इसके लिए सरकार द्वारा समय-समय पर निर्देश जारी किए जाते हैं इसी क्रम में वरिष्ठ चिकित्सकों द्वारा कोरोना संक्रमित भर्ती मरीजों को देखना अनिवार्य किये जाने के सम्‍बन्‍ध में निर्देश जारी किए गए हैं। इस बारे में प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण के महानिदेशक डॉ के के गुप्ता द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि बीती 26 मई को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चिकित्सा शिक्षा मंत्री एवं प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा द्वारा दिए गए निर्देशों के क्रम में यह आदेश दिया जा रहा है कि कोविड-19 वार्ड में वरिष्ठ चिकित्सकों द्वारा मरीजों को देखना  सुनिश्चित किए जाने के दृष्टिगत समय के सत्यापन के साथ फोटो या वीडियो महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा कंट्रोल रूम के ई-मेल पर प्रत्येक दिन सांय 6:00 बजे तक उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

यह आदेश पत्र केजीएमयू व यूपीयूएमएस सेफई के कुलसचिवों, संजय गांधी पीजीआई लखनऊ, यूपीयूएमएस सेफई, डॉ राम मनोहर लोहिया संस्थान लखनऊ, एसएसपी एचटीआई ग्रेटर नोएडा, जीआईएमएस नोएडा, एएमयू अलीगढ़, बीएचयू बनारस के निदेशकों तथा जीएसवीएम कानपुर एसएन मेडिकल कॉलेज आगरा, बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर, एलएलआरएन मेरठ, एमएलबी मेडिकल कॉलेज झांसी, एमएलएन मेडिकल कॉलेज, प्रयागराज के प्रधानाचार्यों के साथ ही सभी स्वशासी मेडिकल कॉलेज एवं निजी मेडिकल कॉलेजों के प्रधानाचार्यों को भेजा गया है।