Wednesday , August 17 2022

सांप के काटने से सड़ने लगा था हाथ, एसजीपीजीआई ने बचाया

-प्‍लास्टिक सर्जरी विभाग में चार घंटे चली सर्जरी, बिहार की रहने वाली युवती अब स्‍वस्‍थ

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। सर्पदंश की शिकार युवती के सड़ रहे घाव को संजय गांधी पीजीआई के प्‍लास्टिक सर्जरी विभाग में पृथक से दूसरी त्‍वचा लगा कर उसके हाथ के घाव को भर कर त्‍वचा को सामान्‍य रूप दिया गया है। चार घंटे चली इस सर्जरी को विभाग के विभागाध्‍यक्ष प्रो राजीव अग्रवाल और उनकी टीम ने सफल अंजाम तक पहुंचाया।

इस बारे में प्रो राजीव अग्रवाल ने बताया कि बीती 24 जुलाई को ऐसे ही एक हादसे में बिहार के मुजफ्फरपुर जिले की रहने वाली 25 वर्षीया युवती को सांप ने हाथ में काट लिया था, प्राथमिक उपचार के बाद युवती को होश आ गया था लेकिन उसके हाथ का घाव नहीं भर पा रहा था, पि‍छले हफ्ते 5 अगस्त को यह युवती यहां ओपीडी में दिखाने आयी थी। युवती ने बताया कि एक नाग इसके घर के बाहर जंगल में कई महीने से रहता था, और घर के अन्दर कई बार आ जाता था। 24 जुलाई की रात को जब वह सो रही थी, तब इसी नाग ने उसको दायें हाथ पर डस लिया। डसने के तुरंत बाद हाथ में अत्यधिक दर्द, सूजन और जलन हो गयी। आस-पास की त्वचा के रंग में भी बदलाव आ गया, और साथ ही साथ बुखार, उल्टी, सिरदर्द एवं कंपकपी लगने लगी। उसके बाद उसके मुहं से झाग निकलने लगा और वो बेहोश हो गयी। घर पर उसका प्राथमिक इलाज जो भी उपलब्ध था उसे किया गया एवं घर के बड़े लोगों ने हाथ के उपर के हिस्से पर कस के कपड़ा बांध दिया। प्राथमिक सेंटर से उसे जिला अस्पताल रेफर किया गया, जहां पर संभवतः उसको एन्टीवेनम दिया गया। एन्टीवेनम देने के बाद मरीज को होश आ गया। इसके कुछ दिनों के बाद रोगी सर्पदंश से ठीक हो गयी, लेकिन उसके हाथ का घाव बढ़ता चला गया।

प्रो राजीव ने बताया कि प्लास्टिक सर्जरी ओ0पी0डी0 में रोगी के दायें हाथ पर काफी बड़ा घाव पाया गया जो उंगली तक जा रहा था। घाव काफी गहरा था जिसमें अन्दर मांशपेशियां एवं टेन्डन भी फूले हुए थे एवं सूख रहे थे। इस रोगी के घाव को ड्रेसिंग के द्वारा बेहतर किया गया और उसके बाद आधुनिक प्लास्टिक सर्जरी से इसके हाथ की क्षति‍ग्रस्त त्वचा एवं टेन्डन को फ्लैप के द्वारा पुनर्गठित किया गया। अब यह रोगी पूर्णतः स्वस्थ है एवं स्वास्‍थ्‍य लाभ ले रही है। यह ऑपरेशन चार घंटे चला, तथा इस ऑपरेशन टीम में मुख्य सर्जन: प्रो0 राजीव अग्रवाल, चीफ एनेस्‍थेटिस्‍ट डॉ संजय कुमार तथा रेजिडेन्ट डॉ भूपेश शामिल थे।

क्लिक करके जानिये सांप के काटने पर क्‍या करें और क्‍या न करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

seven + eighteen =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.