Friday , May 13 2022

सात वर्ष के बच्‍चे के दिल के जटिल रोग पीडीए का बिना सर्जरी किया इलाज

-अजंता हॉस्पिटल की कैथ लैब में बच्‍चे को मिला नया जीवन

डॉ अभिषेक शुक्ला

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। सात वर्ष के बच्‍चे के दिल की दो महाधमनियों के बीच असामान्‍य कनेक्‍शन से होने वाले जटिल रोग पीडीए (Patent ductus arteriosus) के चलते हार्ट फेल होने की स्थिति पैदा हो रही थी, इस असामान्‍य कनेक्‍शन को एक छतरीनुमा डिस्‍क से अलग कर बिना सर्जरी इस बच्‍चे को नया जीवन देने का कार्य अजंता हॉस्पिटल आलमबाग की अजंता हार्ट केयर यूनिट ने सफलतापूर्वक किया है।

यूनिट के हेड एवं सीनियर इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ अभिषेक शुक्ला ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 7 वर्ष के बच्चे के दिल की दो महाधमनियों के बीच के असामान्य कनेक्शन को जिसे पीडीए कहते हैं और जिसकी वजह से इस बच्चे का हार्ट फेल हो रहा था, इस बच्चे की कमर के रास्ते एक छतरीनुमा डिस्क से धमनियों के असामान्य कनेक्शन को सफलतापूर्वक बंद कर दिया। उन्‍होंने बताया कि इस प्रोसिजर के उपरांत अब यह बच्चा पूर्ण रूप से स्वस्थ है और बिना दवाओं एवं तकलीफ के आगे का जीवन जी सकता है।

डॉ अभिषेक ने बताया कि यह एक जटिल जन्मजात रोग था जिस वजह से बच्चे के माता-पिता कई अस्पतालों में चक्कर लगाकर निराश होकर उन तक पहुंचे। उन्होंने 2D एको के द्वारा इस जटिल बीमारी को पहचाना एवं तुरंत प्रोसीजर का रास्ता अपनाकर बच्चे को इस जन्मजात विकृति से छुटकारा दिलाने में कामयाब हुए। ज्ञात हो यह अपने आप में एक जटिल प्रोसीजर था जिसे डॉक्टर अभिषेक ने स्वयं एवं अपनी टीम के सहयोग से अजंता कैथ लैब में बखूबी अंजाम दिया।

डॉ अभिषेक विगत 3 वर्षों में 15 सौ से ज्यादा प्रोसीजर करके ह्रदय के गंभीर रोगियों का जीवन बचा चुके हैं डॉक्टर अभिषेक ने कॉम्प्लिकेटेड एंजियोप्लास्टी, प्राइमरी एंजियोप्लास्टी, आईवीएल, पेसमेकर, आईसीडीएस बलून मित्रल वाल्वोटोमी, पेरिफेरल एंजियोप्लास्टी समेत कई अन्य जटिल प्रोसीजर को सफलतापूर्वक कर के अनेकों रोगियों को जीवनदान दिया है। उन्होंने बताया कि इन प्रोसीजर में उनकी सफलता दर 99% तक रही है।

डॉ अभिषेक ने बताया कि अजंता कार्डियक यूनिट का उद्देश्य जनसामान्य को जल्द से जल्द एवं किफायती दरों पर ह्रदय से संबंधित इलाज को उपलब्ध कराना है। डॉ अभिषेक ने बताया कि इस कार्य में अस्पताल के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ अनिल खन्ना का पूर्ण सहयोग है और उनके सहयोग और प्रोत्साहन से ही वह निरंतर जटिल केसों को करने में तत्पर रहते हैं। डॉ अभिषेक ने डॉ अनिल खन्ना को इस सहयोग व प्रोत्साहन के लिए दिल से धन्यवाद कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen − 13 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.