Thursday , May 19 2022

वांग्‍मय साहित्‍य का ज्ञान यज्ञ ही है युग धर्म : उमानंद शर्मा

वांग्‍मय साहित्‍य का 315वां सेट क्रियेटिव कॉन्वेट कालेज में स्‍थापित

लखनऊ। गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर, लखनऊ के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत  युगऋषि सम्‍पूर्ण वांग्‍मय साहित्‍य का 315वां सेट क्रियेटिव कॉन्वेट कालेज, सरोजनी नगर लखनऊ के केन्दीय पुस्तकालय में गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं0 श्री राम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 78 खण्डों का वांग्‍मय साहित्य स्थापित किया गया।

 

यह वांग्‍मय साहित्य गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट, गायत्री ज्ञान मंदिर इन्दिरा नगर के सक्रिय कार्यकत्री पुष्पा सिंह ने अपने पति स्व. डॉ. श्रीपत सिंह की स्मृति में संस्थान के पुस्तकालय में भेंट किया।

 

इस अवसर पर वांग्‍मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने वांग्‍मय साहित्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि ज्ञान यज्ञ ही युग धर्म है। केके भारद्वाज उपजोन प्रभारी गायत्री परिवार लखनऊ ने ज्ञान यज्ञ के विषय पर कहा कि ऋषि साहित्य छात्र-छात्राओं को नैतिक शिक्षा प्रदान करता है। संस्थान के प्रबन्धक योगेन्द्र सचान ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

 

इस अवसर पर वांग्‍मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा, पीके उपाध्याय, केके भारद्वाज उपजोन प्रभारी लखनऊ, संस्थान के प्रबन्धक योगेन्द्र सचान, निदेशिका राखी सचान, समस्त शिक्षक-शिक्षिका सहित अन्य संकाय सदस्य एवं छात्र-छात्रायें मौजूद थे।