Friday , December 3 2021

चीफ सेक्रेटरी से वार्ता के बाद फार्मासिस्‍टों के तेवर नरम, एक माह तक कोई आंदोलन नहीं

प्रमुख सचिव की मैराथन बैठकों के बाद मुख्‍य सचिव के साथ संघ की बैठक के बाद लिया गया फैसला

 

लखनऊ मुख्य सचिव और प्रमुख सचिव स्वास्थ्य से वार्ता के बाद फार्मेसिस्टों का आंदोलन एक माह के लिये स्थगित हुआ। फार्मेसिस्ट संवर्ग की वेतन विसंगति शीघ्र दूर होगी। एक माह के अंदर पदों के पुनर्गठन मानक निर्धारण, उच्च पदों का सृजन सहित अन्य मांगों पर कार्यवाही होगी। प्रभार भत्ता दस गुना बढ़ाने का प्रस्ताव वित्त को भेजा जाएगा। ट्रॉमा सेंटर में फार्मेसिस्ट के पदों का सृजन होगा, उपकेंद्रो पर नियुक्ति में फार्मेसिस्ट की नियुक्ति के लिए निर्णय कराया जाएगा।

 

ब्लड बैंक में फार्मेसिस्ट के कार्य निर्धारण का आदेश महानिदेशक द्वारा तत्काल निर्गत होगा। नवनियुक्त फार्मेसिस्टों के नाम वरिष्ठता सूची में शामिल कर अनंतिम सूची जनपदों को आपत्ति हेतु भेजी जाएगी। ये निर्णय आज मुख्य सचिव डॉ अनूप कुमार पांडेय उत्तर प्रदेश तथा प्रमुख सचिव स्वास्थ्य प्रशांत त्रिवेदी के साथ डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश की बैठक में लिए गए। प्रमुख सचिव ने दिन में लगभग 3 घंटे बैठक कीं, वहीं मुख्य सचिव ने देर रात 9.30 बजे तक संघ के साथ बैठक की।

 

शासन द्वारा विभिन्न मांगों पर कार्यवाही के लिए शासन ने संघ से एक माह का समय मांगते हुए आंदोलन स्थगित करने की अपील की । संघ के साथ शासन की अगली बैठक 7 जनवरी 19 को होगी जिसमें पूरी कार्यवाही की समीक्षा की जाएगी। इस बीच महानिदेशालय और शासन स्तर पर संघ की मांगों पर विभागीय बैठकें की जाएगी। शासन द्वारा मांगों पर प्रस्ताव हेतु एक कमेटी भी बनाने का निर्देश दिया गया।

 

मैराथन बैठक के बाद संघ भवन में डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन की बैठक सम्पन्न हुई जिसमें प्रांतीय पदाधिकारियों ने भागीदारी की बैठक में हुए निर्णय की जानकारी दूरभाष एवं अन्य माध्यमो से जनपद पदाधिकारियों को दी गयी। जिसके उपरांत पदाधिकारियों की सर्वसम्मति के आधार पर आंदोलन को एक माह के लिए स्थगित किया गया।

 

संघ की कार्यकारिणी की समीक्षा बैठक 13 जनवरी 2019 को बुलाई गई है जिसमे शासन और महानिदेशालय द्वारा की गई कार्यवाही की समीक्षा होगी। शासन के कृत कार्यो से संतुष्ट न होने पर बिना नोटिस आंदोलन पुनः शुरू किया जाएगा ।

 

बैठक में प्रमुख सचिव स्वास्थ्य के साथ विशेष सचिव उमेश मिश्र, महानिदेशक डॉ पद्माकर सिंह सहित अन्य अधिकारी और कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष वी पी मिश्र, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के महामंत्री अतुल मिश्र, डीपीए के अध्यक्ष संदीप बडोला, महामंत्री के के सचान, राजकीय फार्मेसिस्ट महासंघ के अध्यक्ष सुनील यादव, महामंत्री अशोक कुमार, डीपीए उपाध्यक्ष राजेन्द्र पटेल, कोषाध्यक्ष ओ पी सिंह, जे पी नायक, सुभाष श्रीवास्तव, अजय पांडेय, प्रवीण यादव, वी पी सिंह, दिलीप तिवारी, उमेश मिश्रा आदि उपस्थित थे ।