Sunday , April 14 2024

ब्रेस्‍ट कैंसर और डाउन सिंड्रोम की डायग्‍नोसिस की ‘ए टू जेड’ प्रक्रिया सीखी 40 प्रतिभागियों ने

-फि‍श, माइक्रोएरे और कैयरोटाइपिंग तकनीक से कैंसर व डाउन सिंड्रोम जीन्‍स की पहचान करना सिखाया

-प्रतिभागियों के लिए आयोजित क्विज में दस प्रतिभागियों को दिया गया गोल्‍ड मेडल

-केजीएमयू के साइटोजेनेटिक्‍स लैब सेंटर फॉर एडवांस रिसर्च की पांच दिवसीय कॉन्‍फ्रेंस का समापन

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के साइटोजेनेटिक्स लैब सेंटर फॉर एडवांस रिसर्च द्वारा आयोजित की जा रही पांच दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस एवं वर्कशॉप का आज शनिवार को समापन हो गया। इस कॉन्‍फ्रेंस में ब्रेस्‍ट कैंसर और डाउन सिंड्रोम की डायग्‍नोसिस करने के लिए अत्‍याधुनिक तकनीकी के बारे में विस्‍तार से जानकारी दी गयी। कार्यशाला में प्रतिभागियों ने क्‍या सीखा, इसके बारे में अंतिम दिन प्रश्‍नोत्‍तरी का आयोजन किया गया।

डॉ नीतू निगम

कॉन्‍फ्रेंस की आयोजक साइटोजेनेटिक्स लैब सेंटर फॉर एडवांस रिसर्च की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ नीतू निगम ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि कार्यशाला में 40 प्रतिभागियों को कैंसर, डाउन सिंड्रोम की डायग्‍नोसिस के लिए की जाने वाली प्रक्रिया की विस्‍तार से जानकारी दी गयी। उन्‍होंने बताया‍ कि दो दिन हम लोगों ने कल्‍चर किया, स्‍लाइड तैयार करने की प्रक्रिया में तीन से चार दिन का समय लग जाता है। उन्‍होंने बताया कि जब अंतिम दिन स्‍लाइड तैयार हो गयीं तो फ्लोरोसेंस इन सीटू हाइब्रि‍डाइजेशन (फि‍श), माइक्रोएरे और कैयरोटाइपिंग तकनीक के माध्‍यम से ब्रेस्‍ट कैंसर के जीन्‍स और मेंटली रिटार्डेड बच्‍चों में डाउन सिंड्रोम के जीन्‍स की पहचान करना बताया गया।

डॉ नीतू ने बताया कि कार्यशाला में फार्माकोलॉजी, एनाटॉमी, पैथोलॉजी आदि के छात्रों ने भाग लिया। आज अंतिम दिन प्रतिभागियों के लिए एक क्विज का आयोजन किया गया, इसमें सर्वाधिक अंक प्राप्‍त करने वाले 10 प्रतिभागियों को गोल्‍डेन मेडल प्रदान किया गया।

कार्यक्रम के अंत में डॉ नीतू निगम ने धन्‍यवाद ज्ञापित किया। उन्‍होंने कुलपति ले.ज.डॉ बिपिन पुरी के प्रति आभार जताते हुए कहा कि उनकी प्रेरणा से ही यह कार्यक्रम आयोजित हो सका। डॉ नीतू ने कुलसचिव रेखा एस चौहान को कार्यक्रम में शामिल होने के लिए धन्‍यवाद देते हुए कॉन्‍फ्रेंस में विभागाध्‍यक्ष प्रो. अमिता जैन के मार्गदर्शन के लिए आभार जताया। इसके अतिरिक्‍त उन्‍होंने कार्यक्रम के आयोजन में सहयोग के लिए डीन पैरोमेडिकल डॉ अनिल निश्‍चल, पैथोलॉजी विभाग के विभागाध्‍यक्ष प्रो यूएस सिंह, फार्माकोलॉजी के विभागाध्‍यक्ष प्रो आमोद कुमार सचान, प्रो. रजनी गुप्‍ता, प्रो. गीतिका नंदा, प्रो. अनुराधा निश्‍चल, प्रो रीमा कुमार, प्रो प्रीती अग्रवाल, सीनियर टेक्निकल ऑफीसर राम शरण, पीएचडी स्‍कॉलर सुरभि, प्रवीन, नेहा, कीर्ति, शालिनी सहित पूरी आयो‍जन समिति का भी धन्‍यवाद अदा किया।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.