आप सौभाग्यशाली हैं, क्योंकि आप खून दे सकते हैं

लखनऊ। आपके रक्तदान से लोगों की जान बचती है, इसलिए आप सभी सक्षम व्यक्तियों को स्वैच्छिक रक्तदान में भागीदारी करनी चाहिये। आप सौभाग्यशाली हैं क्योंकि आप खून देने में सक्षम है, मतलब आप स्वस्थ हैं। ये प्रोत्साहित करने वाली बातें बुधवार को विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर सिविल अस्पताल में आयोजित संगोष्ठी में उ्रप्र राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी के अपर परियोजना निदेशक राकेश मिश्र ने कही।

जीवन-मृत्यु के बीच फंसे लोगों के  लिए स्वैच्छिक रक्तदान बड़ी चीज

उत्तर प्रदेश राज्य एड्स नियन्त्रण सोसाइटी एवं राज्य रक्त संचरण परिषद के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम में श्री मिश्र ने कहा कि जीवन और मृत्यु के बीच में फंसे लोगों के लिए आपका स्वैच्छिक रक्तदान बहुत मायने रखता है। स्वैच्छिक रक्तदान के द्वारा खून की कमीं से मरने वालों को बचाया जा सकता है। एक यूनिट रक्त से चार लोगों को जीवन मिलता हैं। उन्होंने कहा कि विश्व रक्तदाता दिवस के मौके पर सभी को स्वैच्छिक रक्तदान के लिए संकल्प लेने के साथ ही लोगों को प्रेरित भी करना चाहिए। उन्होंने कहा कि उपलब्ध स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत किया जा रहा है। ताकि रक्त के अवैध कारोबार पर रोक लगायी जा सके।

अभी एक लाख लोगों को रक्तदान का लक्ष्य बाकी

इस अवसर पर सोसाइटी के संयुक्त निदेशक डॉ. अशोक शुक्ला ने बताया कि प्रदेश में कुल 286 ब्लड बैंक है तथा लखनऊ में 19 पंजीकृत ब्लड बैंक स्थापित है। अब तक कुल 9 लाख लोगों ने राज्य के ब्लड बैंकों में रक्तदान किया है। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा इसे बढ़ाकर 10 लाख तक पहुंचाना लक्ष्य तय किया गया है। सिविल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ.आशुतोष दुबे ने कहा कि  रक्त से प्लाज्मा, प्लेटलेट्स तथा फ्रेश फ्रोजेन प्लाज्मा बनाया जाता है। इन कम्पोनेन्ट से जरूरतमंद मरीजों का जीवन बचाया जा सकता है। एक स्वस्थ व्यक्ति प्रत्येक 3 माह के अन्तराल पर रक्तदान कर सकता है। डब्लूएचओ ने वर्ष 2020 तक 100 प्रतिशत स्वैच्छिक रक्तदान का लक्ष्य निर्धारित किया। वर्तमान में स्वैच्छिक रक्तदान करने वालों का प्रतिशत लगभग 43 है। रक्तदान के प्रतिशत को बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सहयोग से 18 नयी मोबाइल वैन प्रदेश के मंडलीय रक्त कोषों को दी जायेंगी। प्रदेश में लोगों की सुविधा हेतु 8 नये ब्लड कम्पोनेन्ट सेपरेटर यूनिट की स्थापना की जा रही है। कार्यक्रम में केजीएमयू ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. तूलिका चन्द्रा, चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आशुतोष दुबे, डॉ. जावेद अहमद समेत कई स्वयं सेवी संस्थाआें के प्रतिनिधि मौजूद थे। इस अवसर पर लायन्स क्लब, हरिओम सेवा संस्थान, रेडक्रॉस सोसाइटी, दैनिक जागरण, ओम फार्मा संस्थाओं व स्वैच्छिक रक्त दान करने वालों को रक्तदान के क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।