जनता के पैसे से आप डॉक्टर बन रहे हैं, आपका भी है कुछ दायित्व

एमबीबीएस करने के बाद साल भर की इंटर्नशिप पीएचसी में करने का आह्वान

लोहिया संस्थान में डॉ एससी राय की मूर्ति का अनावरण, हॉस्टल का भी उद्घाटन

लखनऊ। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एमबीबीएस प्रथम वर्ष छात्रों एवं फै कल्टी को संबोधित करते हुए कहा कि जनता के पैसे से प्रदेश सरकार आपको डॉक्टर बना रही है, चिकित्सक बनने के बाद अगर आप विदेश में, प्राइवेट प्रैक्टिस में जुड़ जायेंगे तो सरकार का पैसा तो बर्बाद हो गया। एक चिकित्सा संस्थान के निर्माण व एक चिकित्सक को तैयार करने में प्रदेश सरकार का बहुत धन व्यय होता है। चिकित्सक बनने के बाद चिकित्सक सरकारी सेवाओं में नहीं आना चाहते हैं, प्राइवेट प्रैक्टिस में जुट जाते हैं। संस्थान में स्थापित प्रतिमा आपको को चिकित्सकीय एवं सामाजिक कर्तव्यों की प्रेरणा देगी ।

मुख्यमंत्री श्री योगी सोमवार शाम को गोमती नगर स्थित डॉ.राम मनोहर लोहिया संस्थान में पद्मश्री डॉ.एससी राय के नाम के 300 बेड वाले नवनिर्मित छात्र हॉस्टल का उद्घाटन करने पहुंचे थे। डॉ.एस सी राय की प्रतिमा के अनावरण कार्यक्रम के अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि एमबीबीएस उत्तीर्ण करने के बाद चिकित्सकों को एक वर्ष ग्रामीण क्षेत्र स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में इंटर्नशिप करनी चाहिये, ताकि उनमें संवेदना जाग्रत हो सके। यही संवेदना उन्हें कुशल चिकित्सक बनाती है। उन्होंने प्रदेश में चिकित्सकीय सेवाओं को दयनीय बताते हुए, 350 बेड के लोहिया इंस्टीट्यूट व 200 बेड के बाल एवं महिला चिकित्सालय के साथ ही 400 बेड को एक साथ मिलकर कार्य करने की अपील करते हुए, संस्थान प्रगति में हर संभव सहयोग देते रहने का आश्वासन दिया।
डाक्टर राय के जीवन से प्रेरणा लेने की नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि एक समय डॉक्टरों के प्रति लोगों में बहुत सम्मान थ, भारत का पीएम भी बलरामपुर अस्पताल में इलाज कराने से गुरेज नही करता था। डॉक्टरों के कर्तव्य के साथ व्यवसाय जुडऩे से स्थिति कुछ और होती है। लाभ-हानि व व्यवसाय से जुडऩे से संवेदनाएं प्रभावित होती हैं। उन्होंने कहा कि डॉक्टरों की अपनी निजी लाइफ नहीं होती है, रात को सूचना मिलने पर डॉक्टर को पहुंचना पड़ता है, जब डॉक्टरों ने संवेदनाओं के साथ समाज में कर्तव्य निर्वहन किया है, समाज ने उन्हें बहुत सम्मान दिया है। उन्होंने कहा कि लोहिया इंस्टीट्यूट में पीजीआई के समतुल्य सुपर स्पेशियलिटी चिकित्सकीय सेवाएं उपलब्ध हो रही हैं। इससे पीजीआई में दबाव कम हुआ है।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने कहा कि डाक्टर राय ने लखनऊ में न केवल चिकित्सकीय सेवाएं दी बल्कि सामाजिक दायित्वों का भी निर्वाहन किया है। यही वजह है कि आज के दिन डॉक्टर राय, सभी डॉक्टरों के लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं। इस अवसर पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या, महिला कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, न्यायमंत्री बृजेश पाठक, प्रमुख सचिव रजनीश दुबे, केजीएमयू कुलपति प्रो.एमएलबी भटट् आदि मौजूद थे। लोहिया इंस्टीट्यूट के निदेशक डॉ.दीपक मालवीय ने अतिथियों का स्वागत किया और संस्थान की प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की।

काम करने वालों की गलती क्षम्य

श्री योगी ने, गोरखपुर व अन्य अस्पतालों से आने वाली शिकायतों में चिकित्सकों को बचाते हुए कहा कि कार्य के साथ गलती संभव है, मगर गलती जानबूझ कर न करें, कार्य न करे और कहें कि आप से कोई गलती नही हुई है, तो एेसे चिकित्सक या कर्मचारी को सेवा मुक्त कर देना चाहिये। हर अच्छे कार्य में और अच्छा करने की गुंजाइश होती है।

विशेषज्ञ एक दिन मलीन बस्ती में सेवाएं दें

सीएम योगी ने चिकित्सकों से अपील की है कि लखनऊ के सभी विशेषज्ञों को टीम बनाकर एक दिन किसी भी मलीन बस्ती में चिकित्सकीय सेवाएं देनी चाहिये।

स्वच्छता मिशन हर बीमारी का इलाज

मीडिया पर कटाक्ष करते हुए सीएम योगी ने कहा कि स्वाइन फ्लू, डेंगू व इंसेफेलाइटिस आदि बीमारी मुद्दा नहीं बनना चाहिये, इसके लिए भय नहीं, धैर्य की आवश्यकता होती है। इसकी रोकथाम के लिए जागरूकता बढ़ानी चाहिये, मीडिया का सहयोग जरूरी है।

इससे पूर्व इस अवसर पर विशेष रूप से आमंत्रित की गयीं डॉ. एससी राय की की पत्नी मधु राय को शाल ओढाकर मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया. समारोह को प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ.रजनीश दुबे, लोहिया संसथान के निदेशक प्रो.दीपक मालवीय ने भी संबोधित किया.