Friday , May 6 2022

बहुमूल्‍य है ऋषि श्रीराम शर्मा आचार्य रचित वांग्‍मय साहित्‍य : राजेन्‍द्र तिवारी

-विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान का 344वां सेट मुख्‍य सचिव कार्यालय में स्‍थापित

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो


लखनऊ।
गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर, लखनऊ के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 79 खण्डों के वांग्‍मय साहित्‍य का 344वां सेट उत्‍तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र तिवारी के कार्यालय के पुस्तकालय में स्‍थापित किया गया।

कोविड प्रोटोकाल के अनुसार आयोजित सूक्ष्म कार्यक्रम में वांग्‍मय साहित्य का सेट गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट की सक्रिय सदस्य स्वाती शर्मा ने भेंट किया।

इस अवसर पर वांग्‍मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने कहा सद्ज्ञान व्यक्ति को आमूलचूल परिवर्तन कर नर से नारायण बना सकता है।
श्री शर्मा ने कहा कि अब तक राजभवन, विधानसभा, सचिवालय प्रशासन, एस.जी.पी.जी.आई., लखनऊ विश्वविद्यालय, के.जी.एम.यू., नदवा विश्वविद्यालय, दैनिक जागरण, हिन्दुस्तान, अमर उजाला, एन.बी.टी., हिन्दुस्तान टाइम्स, आई.आई.एम., बी.बी.डी. विश्वविद्यालय, रामस्वरूप विश्वविद्यालय, प्रबन्ध तकनीकी संस्थानों, गुरुद्वारा, चर्च, ब्रह्मकुमारीज, माउंटआबू, सार्वजनिक पुस्तकालय सहित 343 स्थानों पर लगाया जा चुका है, लक्ष्य 501 स्थानों पर वांग्‍मय स्थापित करने का है। समस्त समाज के हर क्षेत्र में नैतिक मूल्यों का विकास हो, पतन पीड़ा से मुक्ति मिले, यही उद्देश्य है।
इस अवसर पर मुख्य सचिव राजेन्द्र तिवारी ने कहा कि युग ऋषि पं. श्रीराम शर्मा द्वारा रचित साहित्य बहुमूल्य है, व्यक्ति, परिवार, समाज एवं राष्ट्र का निर्माण कर सकता है। इस अवसर पर राजेन्द्र तिवारी ने गायत्री परिवार द्वारा साहित्य भेंट करने के लिए आभार व्यक्त किया। इस मौके पर उमानन्द शर्मा के अतिरिक्त डॉ. नरेन्द्र देव, देवेन्द्र सिंह, स्वाती शर्मा, चांदनी शर्मा आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − fourteen =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.