Friday , October 22 2021

बच्‍चों को जानलेवा दस्‍त से बचायेगी वैक्‍सीन, नियमित टीकाकरण में की गयी शामिल

रोटा वायरस के कारण होने वाली बीमारी से बचाने के लिए वैक्‍सीन पिलाकर उद्घाटन किया रीता बहुगुणा ने  

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश की परिवार कल्याण, महिला कल्याण, मातृ एवं शिशु कल्याण मंत्री प्रो0 रीता बहुगुणा जोशी ने आज बच्चों को रोटा वायरस से होने वाली जानलेवा दस्त की बीमारी से बचाव के लिए पिलाई जाने वाली वैक्सीन का शुभांरभ किया। वैक्सीन के बारे में अधिक से अधिक जानकारी और प्रचार के लिए गोमती नगर स्थित होटल में  एक मीडिया कार्यशाला भी आयोजित की गई, ताकि इस वायरस से बचाव में मीडिया की सकारात्मक एवं प्रभावी भूमिका का उपयोग शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए किया जा सके।

 

 

प्रो0 जोशी ने दीप प्रज्ज्वलित कर तथा शिशुओं को वैक्सीन पिलाकर कार्यक्रम का शुभांरभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि रोटावायरस दस्त के कारण गंभीर अवस्था में बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ता है। कभी-कभी दस्त जानलेवा भी हो जाते हैं। हर्ष का विषय है कि राज्य के नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में आज एक नई वैक्सीन शामिल की जा रही है, जो रोटावासरस के कारण होने वाली गंभीर दस्त से सुरक्षा प्रदान कराएगी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक नवजात को जन्म के छठे, दसवें और चौदहवें सप्ताह में रोटा वायरस वैक्सीन की पांच बूंदे पेन्टा-1, 2 और 3 वैक्सीन के साथ पिलाई जानी है। अब उत्तर प्रदेश देश का ग्यारहवां ऐसा राज्य हो जायेगा, जो इस वैक्सीन से बच्चों को रोटा वायरस से पूर्ण प्रतिरक्षित करेगा।

 

 

राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डा0 ए0पी0 चतुर्वेदी ने वैक्सीन के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस वैक्सीन से दस्त के कारण होने वाली मौतों में कमी आएगी। यह वैक्सीन सबसे पहले भारत में नियमित प्रतिरक्षण कार्यक्रम के तहत 2016 में ओडिशा में शुरू की गई थी जिसके बाद इसे हिमाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश, असम, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, त्रिपुरा और झारखंड में दिया जाना शुरू किया गया। परिवार कल्याण विभाग की महानिदेशक नीना गुप्ता ने कहा कि मई 2018 तक 2.1 करोड़ से अधिक रोटावायरस वैक्सीन बच्चों को दी जा चुकी है। रोटावायरस वैक्सीन के शुरूआती दौर में, केवल पहली ओपीवी की खुराक और पेंटावेलेंट के लिए आने वाले शिशुओं को रोटावायरस की ड्रॉप दी जाएगी। रोटावायरस वैक्सीन की मदद से हर साल डायरिया से 57 लाख नवजात शिशुओं का बचाव किया जाएगा।

 

 

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश के मिशन निदेशक पंकज कुमार ने कहा कि वैश्विक स्तर पर 5 साल से कम उम्र के बच्चों की मौतों में 9 प्रतिशत और भारत में 10 प्रतिशत के लिए डायरिया जिम्मेदार है। यूनीसेफ के अमित मेहरोत्रा ने बताया कि वैश्विक स्तर पर रोटावायरस बीमारी से निजात पाने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सभी देशों के राष्ट्रीय प्रतिरक्षण कार्यक्रम में इस वैक्सीन को शामिल करने की सिफारिश की है। कार्यक्रम में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवा निदेशालय, परिवार कल्याण निदेशालय, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तर प्रदेश, यूनीसेफ, विश्व स्वास्थ्य संगठन, यूएनडीपी, रोटरी, जेएसआई, टीएसयू, यूपी, के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 + 2 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.