दो लाख लोगों को अब भी है रंग भरी दुनिया देखने का इंतजार

नेत्रदान के प्रति जागरूकता के लिए केजीएमयू स्थित आई बैंक ने निकाली रैली

लखनऊ। क्‍या आप जानते हैं कि दो लाख लोग अब भी रोशनी की एक किरण नहीं देख पाये हैं। उन्‍हें इंतजार है रंगबिरंगी दुनिया देखने का। उनके जीवन में रोशनी के रंग भरते हैं चिकित्‍सक जब वे उनकी आंखों में किसी के दान से मिले हुए कॉर्निया को लगाते हैं। इसी नेत्र दान के प्रति जागरूकता के लिए 33वां राष्‍ट्रीय नेत्रदान पखवाड़ा मनाया जा रहा है। इसी के अंतर्गत किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍वविद्यालय स्थित यूपी कम्‍युनिटी आई बैंक द्वारा आज 26 अगस्‍त को एक रैली निकाली गयी। इस रैली की शुरुआत सुबह केजीएमयू के एकेडमिक ब्‍लॉक से हुई तथा चौक, कोनेश्‍वर मंदिर, घंटाघर, एसपी हॉस्‍टल होते हुए वापस एकेडमिक ब्‍लॉक पर समाप्‍त हुई।

 

इस मौके पर मुख्‍य अतिथि एनपीसीबी, लखनऊ की एकता पाण्‍डेय और डॉ वाईके पाठक थे तथा कुलपति प्रो एमएलबी भट्ट, आई बैंक के मेडिकल डाइरेक्‍टर डॉ अरुण कुमार शर्मा के साथ ही रेजीडेंट डॉक्‍टर, कर्मचारी आदि उपस्थित रहे।  नेत्रदान के बारे में बताया गया है कि नेत्रदान का अर्थ सिर्फ दान की गयी आंख की ऊपरी सतह को लेना होता है, पूरी आंख नहीं। बैंक की ओर से अपील की गयी है कि इस पुनीत कार्य में लोग आगे आयें।

 

केजीएमयू स्थित आई बैंक का 24 X 7 संचालन ट्रॉमा सेंटर में ग्‍लोबल नॉट फॉर प्रॉफि‍ट ऑर्गेनाइजेशन और साइट लाइफ द्वारा किया जा रहा है। इस बैंक को आर्थिक मदद हंस फाउंडेशन से प्राप्‍त होती है। नेत्रदान के लिए कोई भी व्‍यक्ति सीधे 6390-826-826 नम्‍बर पर कॉल कर सकता है। आपको बता दें कि एक व्‍यक्ति नेत्रदान से दो लोगों को रोशनी मिलती है।