सिविल अस्‍पताल पहुंचे मंत्री से तीमारदार ने सुनायी अपनी व्‍यथा

मंत्री ने तुरंत किया चिकित्‍सकों को तलब

लखनऊ। आज डॉ श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी (सिविल) अस्पताल में सीटी स्‍कैन की सुविधा का उद्घाटन करने पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह का सामना एक शिकायतकर्ता से हो गया। इस व्‍यक्ति को अस्‍पताल से शिकायत थी।

हुआ यूं कि ऐशबाग निवासी बलजीत सिंह ने शिकायत करते हुए अस्पताल की कलई खोल दी, बलजीत ने बताया कि उसके पिता बीते 20 दिनों से अस्पताल के ऑर्थोपैडिक वार्ड में भर्ती हैं, डॉ. राम कृष्णा, डॉ.राकेश सिंह और डॉ.अनुभव देख रहे हैं, सर्जरी होनी है, मगर डेट नहीं दे रहे हैं। कई दिन बीत चुके हैं, मरीज के पास आते भी नहीं है।

शिकायत सुनते ही स्वास्थ्य मंत्री गुस्सा हो गये और तीनों डॉक्टरों को स्पष्टीकरण के लिए तुरन्त हाजिर होने का फरमान सुनाया। अस्पताल के सीएमएस डॉ.एके सिंह ने अवगत कराया कि डॉ.राम कृष्ण, चिक्त्सिकीय अवकाश पर हैं और डॉ.अनुभव डीएनबी छात्र हैं। लिहाजा डॉ.राकेश सिंह को बुलाया गया। इसी दौरान स्वास्थ्यमंत्री को बीएचटी से अवगत कराया गया कि मरीज महेन्द्र सिंह की उम्र 76 वर्ष हैं, कमर की हड्डी टूटी है और खून की कमी से जूझ रहें हैं, दो यूनिट खून चढ़ाया जा चुका है, मगर सर्जरी करने की स्थिति में नहीं है। यही बात इलाज करने वाले डॉ.राकेश सिंह ने भी बतायी कि खून की कमी दूर होने और हृदय रोग विभाग की मंजूरी मिलते ही सर्जरी कर दी जायेगी।