Sunday , May 8 2022

मांगें मानने को सरकार नहीं तैयार, शुरू हो गया फार्मेसिस्ट्स का कार्य बहिष्कार

-डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश का आंदोलन 4 दिसंबर से जारी

-विरोध प्रदर्शन के बीच आंदोलनकारियों ने दी जनरल बिपिन रावत को श्रद्धांजलि

सेहत टाइम्स

लखनऊ। डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के आह्वान पर 4 दिसंबर से चल रहा क्रमिक आंदोलन धरना, काला फीता होते हुए आज 2 घंटे के कार्य बहिष्कार में बदल गया। उत्तर प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों, जिला चिकित्सालय , महिला चिकित्सालय, अन्य राजकीय चिकित्सालय, पुलिस चिकित्सालय, पीएसी चिकित्सालय , बाल महिला चिकित्सालय में प्रातः 8 से 10 बजे तक 2 घंटे एवं ग्रामीण चिकित्सालय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रातः 10 से 12 2 घंटे कार्य बहिष्कार किया गया।

यह जानकारी देते हुए प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष सुनील यादव ने बताया कि लगातार संघ की जायज मांगों पर शासन और प्रशासन का ध्यान आकृष्ट करने के बावजूद अभी तक सरकार द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई है , ना ही संघ के साथ कोई संवाद कायम किया गया है, जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार एवं शासन में बैठे हुए अधिकारी फार्मेसिस्टों को आंदोलन के रास्ते पर जाने के लिए मजबूर कर रहे हैं , इसलिए संघ के आवाहन पर आज 20 सूत्री मांगों को को लेकर उत्तर प्रदेश के लगभग 7500 फार्मेसिस्टों ने 2 घंटे का कार्य बहिष्कार किया।प्रदेश अध्यक्ष संदीप बडोला, महामंत्री उमेश मिश्रा ने आज सिविल चिकित्सालय में गेट मीटिंग को संबोधित करते हुए सरकार को चेतावनी दी कि अगर संघ की मांगों पर शासनादेश निर्गत नहीं किया गया तो 17 दिसंबर से पूर्ण कार्य बहिष्कार शुरू कर दिया जाएगा और 20 दिसंबर से सभी आवश्यक सेवाएं भी हड़ताल में शामिल हो जाएंगी। संदीप बडोला ने कहा कि प्रदेश के फार्मेसिस्ट एकजुट हैं, अब संघर्ष आर पार का होगा।

लखनऊ शाखा द्वारा प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश द्वारा पूर्व घोषित आंदोलन के आज छठे दिन 9 दिसंबर को लखनऊ के सिविल अस्पताल में प्रदेश अध्यक्ष संदीप बडोला व महामंत्री उमेश मिश्रा के नेतृत्व में,प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष सुनील यादव,जनपद शाखा लखनऊ अध्यक्ष अरुण अवस्थी,कार्यकारी अध्यक्ष कपिल वर्मा,मंत्री अखिल सिंह,पूर्व अध्यक्ष सुशील त्रिपाठी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष आर बी मौर्य,उपाध्यक्ष सुशील कुमार विद्यार्थी, संगठन मंत्री अविनाश सिंह,संयुक्त मंत्री विवेक श्रीवास्तव, कोषाध्यक्ष चंद्रशेखर श्रीवास्तव, संप्रेक्षक जितेंद्र कुमार,पंकज रस्तोगी व जनपद के सभी बड़े चिकित्सालयों सहित सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर फार्मासिस्टों ने सुबह 8 बजे से 10 बजे तक 2 घण्टे का कार्य बहिष्कार करते हुए प्रदेश सरकार को फार्मासिस्ट संवर्ग की माँगों की ओर ध्यान न दिए जाने के कारण कड़ा विरोध दर्ज कराया गया।

विरोध प्रदर्शन कर रहे सभी फार्मासिस्टों ने 8 तारीख को तमिलनाडु के कुन्नूर में वायु सेना के हेलीकॉप्टर MI17 V5 दुर्घटनाग्रस्त हो जाने के कारण चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल विपिन रावत व उनकी पत्नी सहित शहीद हुए 14 ऑफिसर्स को 2 मिनट का मौन रखकर विनम्र श्रद्धांजलि दी गई।जिसमें डी पी ए उत्तर प्रदेश संरक्षक के के सचान, पूर्व महामंत्री श्रवण सचान,पूर्व प्रान्तीय कोषाध्यक्ष रजत यादव,सुभाष श्रीवास्तव, संजय कनौजिया,जी सी दुबे,ओ पी पटेल,श्रवण चौधरी, सलिल श्रीवास्तव, सुधाकर शर्मा,रंजीत,डफरिन से जसवंत सिंह,अरविंद तिवारी पवन शर्मा टी बी अस्पताल से रामेंद्र सिंह,राजेश कोहली,कल्पना सचान,जितेंद्र कुमार पटेल सहित सभी फार्मासिस्ट/चीफ फार्मासिस्ट साथियों ने भाग लिया।

साथ ही जनपद लखनऊ के सभी सामु०स्वा०केंद्र व प्रा०स्वा०केंद्रों पर तैनात सभी फार्मासिस्ट/चीफ फार्मासिस्ट साथियों द्वारा 2 घंटे का कार्य बहिष्कार करते हुए विरोध प्रदर्शन किया गया। डी पी ए जनपद शाखा लखनऊ के कार्यकारी अध्यक्ष कपिल वर्मा द्वारा संवर्ग के सभी फार्मेसिस्ट/चीफ फार्मासिस्ट साथियों द्वारा आंदोलन के छठे दिन भी भारी संख्या में अपने अपने कार्यस्थल पर 2 घंटे का कार्य बहिष्कार करते हुए अपना विरोध दर्ज कराने के लिए सभी साथियों का आभार व्यक्त करते हुए अनुरोध किया गया कि आगे के आंदोलन कार्यक्रम को भी नीडरता के साथ एकजुट रहते हुए पूर्णतया सफल बनाने के लिए जनपद के सभी साथी बढ़ चढ़ कर सहभागिता करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen + 19 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.