वॉशरूम जाना है तो भूतल पर ही जाइये, …यहां बंद है क्योंकि टोटियां चोरी हो रही हैं…

लखनऊ। बलरामपुर हॉस्पिटल के न्यू ओपीडी बिल्डिंग में यूं तो हर तल पर मरीजों के पेशाब करने के लिए बाथरूम बने हुए हैं लेकिन वाशरूम जाने की सुविधा सिर्फ भूतल पर ही बहाल है बाकी तलों पर बाथरूम में ताले लगे हुए हैं, इन ताले लगे होने का कारण बाथरूम में लगे नल की टोटियोंं की चोरी है। इस कारण मरीजों को परेशानी हो रही है। यानी अस्पताल प्रशासन ने चोरों से निपटने के लिए मरीजों की सुविधाओं को दरकिनार करते हुये उसमें ताले लगवा दिये।

दो-दो मंजिल पर वॉशरूम पर ताला लगा देख चिल्ला उठी मरीज

यह मामला आज उस समय उजागर हुआ जब उच्च रक्तचाप और मधुमेह रोगी एक महिला बैचेनी होने के बाद चिल्ला उठी। महिला के चिल्लाने पर वहां मौजूद गार्ड से पता चला कि पूरी ओपीडी में मरीजों के लिये सिर्फ ग्राउण्ड तल पर ही वॉशरूम खुला हुआ है प्रथम और द्वितीय तल बॉशरूम को हॉस्पिटल के प्रशासन के निर्देशों पर बंद रखा गया है। इसी बीच वहां केयर टेकर नर्स पहुंच गयी जब उसे वॉशरूम के बंद होने के बारे में बताया गया तो उसने बताया कि यहां लगी महंगी टोटियां चोरी हो रही है, इस वजह से हॉस्पिटल के प्रशासन ने ताले लगवा दिये है।
जानकारी के मुताबिक महिला मरीज उच्च रक्तचाप, मधुमेह के साथ अन्य कई बीमारियों से पीडि़त है और पिछले कई दिनों से बलरामपुर हॉस्पिटल में फिजिशियन डॉ. विष्णु को बराबर दिखा रही है, और उसी क्रम में आज भी अपने आप को दिखाने बलरामपुर हॉस्पिटल पहुंची थी, चूंकि फिजीशियन डॉ. विष्णु के अलावा ईएण्डटी और न्यूरो के डाक्टर को भी दिखाने के वजह से समय ज्यादा लग गया, इसी बीच महिला मरीज को यूरिन की प्रॉब्लम होने कारण दूसरे तल पर बने वॉशरूम पहुंची तो वहां ताला लगा हुआ, बढ़ती परेशानी के कारण जल्दी ही वह किसी तरह प्रथम तल पहुंची तो वहां भी ताला लगा पाया, यह देख महिला मरीज अपना आपा खो बैठी और चिल्ला उठी तभी वहां मौजूद एक गार्ड ने बताया कि नीचे एक ही वॉशरूम खुला हुआ है।  वहां नजर आयी केयर टेकर नर्स से वॉशरूम में बंद ताले के बारे बताया तो उसने भी बंद ताले की मजबूरी गिनानी शुरू कर दी और बताया कि ओपीडी के शौचालयों में लगी टोटियां चोरी हो रही हैं, इस वजह से हॉस्पिटल के प्रशासन ने ताला लगवा रखा है। उधर पीडि़त महिला मरीज ने सरकार से हॉस्पिटल के प्रशासन की शिकायत करवाने की बात कह कर तो वापस चली गयी लेकिन कई अहम सवाल खड़ी कर गयी। ओपीडी के बाथरूम में हुयी महंगी टोटियों की चोरी को लेकर हॉस्पिटल के प्रशासन ने वॉशरूम में ताले तो जड़वा दिये लेकिन उसे यह समझ में नहीं आया कि दूर-दूर आने वाले यूरिन की समस्या से पीडि़त मरीजों का क्या होगा।

बस जैसे-तैसे काम चलाया जा रहा

इस बारे में प्रशासन से जुड़े एक जिम्मेदार अधिकारी ने स्वीकार किया कि टोटी चोरी होने की वजह से ही ताले लगवाये गये हैं, यह भी जानकारी में आया है कि नयी ओपीडी के भवन की देखरेख आदि के लिए कर्मचारी नहीं मिले हैं इसलिए बस जैसे-तैसे काम चलाया जा रहा है।