Thursday , June 30 2022

अगर सांस फूलना, पसली चलना, सीने में भारीपन, बार-बार खांसी-जुकाम हो रहा है…तो

-विश्‍व अस्‍थमा दिवस पर आईएमए लखनऊ ने लगाया नि:शुल्‍क जांच एवं सलाह शिविर

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। धूम्रपान, प्रदूषण, फास्ट फूड के बढ़ते प्रचलन के चलते अस्थमा के रोगियों की संख्या बढ़ रही है। सांस फूलना, पसली चलना, सीने में भारीपन तथा बार-बार सर्दी जुकाम व खांसी होना अस्थमा के लक्षण है। किसी व्‍यक्ति को अगर ये लक्षण नजर आते हैं तो उसे तुरंत चिकित्‍सक से सम्‍पर्क करना चाहिये। अस्थमा का उपयुक्त इलाज उचित इलाज इनहेलर चिकित्सा है अतः यदि चिकित्सक इनहेलर लेने की सलाह देते हैं तो इसे लेने में किसी तरह का संकोच नहीं करना चाहिए। इनहेलर थेरेपी आपके अस्थमा को काबू रखने में कारगर सिद्ध होगी।

ये बातें विशेषज्ञों ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा विश्व अस्थमा दिवस 5 मई पर आज यहां रिवर बैंक कॉलोनी स्थित आई एम ए भवन पर आयोजित नि:शुल्क शिविर में आए हुए मरीजों व उनके परिजनों को संबोधित करते हुए कहीं। शिविर में 55 मरीजों की नि:शुल्क जांच की गई। इस बारे में जानकारी देते हुए आई एम ए लखनऊ के अध्यक्ष डॉ मनीष टंडन व सचिव डॉ संजय सक्सेना ने बताया कि शिविर में आए रोगियों को किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के विभागाध्यक्ष व आई एम ए एकेडमी ऑफ मेडिकल स्पेशलिटीज आईएमए एएमएस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ सूर्यकांत तथा डॉ अजय वर्मा द्वारा जांच कर उन्हें आवश्यक सलाह दी गई। शिविर में रोगियों का पल्मोनरी फंक्शन टेस्ट (पीएफटी) जांच भी की गई। इसके साथ ही मरीजों को नि:शुल्क इनहेलर और दवाइयों का भी वितरण किया गया।

डॉ सूर्यकांत ने कहा कि अस्थमा का उचित इलाज इनहेलर्स है जो कि अपने अस्थमा विशेषज्ञ की सलाह पर नियमित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि अस्थमा के रोगियों को धूम्रपान व प्रदूषण से बचना चाहिए तथा शुद्ध शाकाहारी भोजन, हरी सब्जियां व प्रचुर मात्रा में फलों का सेवन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बच्चों तथा अस्थमा के रोगियों को फास्ट फूड का सेवन नहीं करना चाहिए, शिविर में केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ ज्योति बाजपेई व जूनियर डॉक्टर अनिकेत रस्तोगी एवं डॉ विनीत यादव ने भी अस्थमा रोगियों का परीक्षण किया इसके अतिरिक्त आईएमए लखनऊ के मुख्‍य प्रवक्‍ता व राधा कृष्णा वेलफेयर ट्रस्ट के डायरेक्टर डॉ वीरेंद्र कुमार यादव ने भी जांच शिविर एवं जागरूकता अभियान के बारे में मरीजों को विस्तार से जानकारी दी। कार्यक्रम के अंत में सचिव डॉ संजय सक्सेना ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + sixteen =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.