सादगी से मनाया गया शांतिकुंज की अधिष्ठात्री शैलदीदी का जन्म दिन

-देश-विदेश से गायत्री परिजनों, संतों सहित राजनेताओं ने भी दी शुभकामनाएं

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ/हरिद्वार। करोड़ों गायत्री परिवार के श्रद्धा के केन्द्र रूप में विराजमान शांतिकुंज की अधिष्ठात्री शैलदीदी का 68वां जन्मदिन सादगी से मनाया गया। इस अवसर पर प्रातःकाल दीपमहायज्ञ के साथ जन्मदिवस के वैदिक कर्मकाण्ड पूरा किया। अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या ने मंगल तिलक कर पुष्पाहार भेंट किया। इसके  पश्चात जहां शांतिकुंज, देव संस्‍कृति विवि परिवार ने पुष्पगुच्छ भेंटकर दीर्घायु एवं स्वस्थ जीवन की मंगलकामना की, तो वहीं शांतिकुंज के नौनिहालों ने भावगीत प्रस्तुत कर अपनी शुभेच्छा प्रकट की।

इस अवसर पर कनाडा, अमेरिका, लंदन, कोलंबो, मलेशिया, मांट्रियल, इंग्लैण्ड आदि देशों के अलावा देशभर के गायत्री परिजनों ने अपनी-अपनी मंगलकामनाएं दीं। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय भाई रूपाणी, प्रख्यात संत गोविन्दगिरी  जी महाराज, प्रसिद्ध कथावाचक सुधांशु महाराज, स्वामी चिन्दानंद मुनि सहित राजनीति एवं अध्यात्म क्षेत्र के अनेक ख्यातिलब्ध हस्ताक्षरों ने अपनी शुभकामनाएँ दी।

विकट से विकट परिस्थितियों में भी जीजी संघर्ष पथ पर डटी हैं। संस्थापकद्वय पं. श्रीराम शर्मा आचार्य एवं माता भगवती देवी शर्मा के बाद उन्होंने जहां कुशल संगठक के रूप में इस परिवार की बागडोर संभाली, तो वहीं उन्होंने नारी जागरण आन्दोलन द्वारा देश-विदेश में नारियों को पर्दाप्रथा, मूढ़मान्यताओं से निकालकर उन्हें न केवल घर, परिवार समाज में समुचित सम्मान दिलाया है, अपितु धर्म-अध्यात्म से जोड़कर वैदिक कर्मकाण्ड परंपरा में दीक्षित एवं पारंगत करके उन्हें ब्रह्मवादिनी की भूमिका संचालित करने योग्य बनाया है। आज उन्हीं के पुरुषार्थ से देश-विदेश की लाखों नारियां यज्ञ संस्कारों का सफल संचालन कर रही हैं। संगठन की मजबूती एवं विस्तार के साथ उसके उद्देश्य को सम्पूर्ण मानवता तक पहुंचाने के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन होम दिया है। करोड़ों लोगों के विराट् जन समूह को आश्वस्त करते हुए वे कहती हैं- ‘यह दैवी शक्ति द्वारा संचालित मिशन सतत आगे ही बढ़ता जायेगा। कोई भी झंझावत इसे हिला नहीं सकेगा। देवसंस्कृति-भारतीय संस्कृति, विश्व संस्कृति बनेगी।’ इस समय जीजी लाखों-करोड़ों जनसमुदाय के लिए आशा की केन्द्रबिन्दु हैं।

इस अवसर पर गायत्री परिवार प्रमुखद्वय शैलदीदी एवं डॉ. प्रणव पण्ड्या ने पंचतत्‍व के प्रतीक के रूप में पांच कलशों का पूजन किया। साथ ही आगामी नववर्ष के लिए टेबल कैलेण्डर एवं प्रज्ञावतार लीलामृत (प्रबंध काव्य) पुस्तक का विमोचन किया। इस दौरान शचीन्द्र भटनागर को उनकी उत्कृष्ट कविताओं के लिए युग सृजन अभियान की क्रांतदर्शी कवि उपाधि देकर सम्मानित किया। वहीं सायंकाल गीता जयंती के अवसर पर श्रीगीता जी का सामूहिक पाठ एवं दीपांजलि कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।