तीन बार में मिलेंगे गर्भवती महिलाओं को 5000 रुपये

सीधे बैंक में जायेगी मातृ वंदना योजना की धनराशि, सीएमओ होंगे जिम्मेदार

 

लखनऊ. गर्भवती महिला कुपोषण से बचाने के लिए शुरू की गयी योजना के तहत दी जाने वाली पांच हजार रुपये की धनराशि तीन चरणों में दी जायेगी. योजना का लाभ सभी पात्र महिलाओं को मिले इसकी जिम्मेदारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी की होगी तथा अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को जिले में नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया गया है. इस योजना के अलावा जननी सुरक्षा योजना के तहत मिलने वाला लाभ भी उन्हें मिलता रहेगा.

 

प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य परिवार कल्याण ने कहा कि गर्भवती महिलाओं को मातृ वंदना योजना के तहत गर्भावस्था का पंजीकरण कराने पर रु0 1000/-, छः माह की गर्भावस्था पूर्ण होने पर जांच के बाद रु0 2000/- तथा शिशु के जन्म के बाद प्रथम टीका चक्रपूर्ण करने पर रु0 2000/- सीधे उनके खाते में ट्रांसफर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में संचालित जननी सुरक्षा योजना के अन्तर्गत प्रदान की जा रही आर्थिक सहायता भी गर्भवती महिलाओं को मिलती रहेगी और संस्थागत प्रसव पर प्रचलित योजना का लाभ भी प्राप्त होगा।