कोरोना महामारी से मुक्ति के लिए भगवान से की पत्र लिखकर प्रार्थना

-अंश वेलफेयर फाउंडेशन ने आयोजित की ऑनलाइन एक्टिविटी

श्रद्धा सक्‍सेना

लखनऊ। लॉकडाउन के दौर में अंश वेलफेयर फाउंडेशन की तरफ से ऑनलाइन एक्टिविटी चल रही है। महिला सशक्तिकरण, कला व संस्कृति, अध्यात्म, ज़रूरतमंदों की आवश्यकता की पूर्ति आदि कार्यों के तहत कोरोना महामारी से संसार को उबारने की प्रार्थना पर पत्र लेखन का आयोजन किया गया। आज की एक्टिविटी का विषय था ” ईश्वर के नाम पत्र”।

यह जानकारी देते हुए फाउंडेशन की संस्‍थापक अध्‍यक्ष श्रद्धा सक्‍सेना ने बताया कि 23 अप्रैल की एक्टिविटी में प्रतिभागियों को ईश्वर के नाम एक पत्र लिखना था, हमने प्रकृति को नष्ट करने में कोई कसर नही छोड़ी उसकी माफी मांगनी थी इस आपदा को रोकने के लिए भगवान से प्रार्थना करनी थी। जिन भी भगवान को मानते हैं उनकी फोटो के साथ अपनी फोटो लगा कर भेजना था साथ ही फ़ोटो पर “stay home stay safe” का मैसेज भी ज़रूरी था।

इस एक्टिविटी में ईशिका खरे,अनूप घोष,अमर्त्य मित्र, अद्यानशी कपूर,अर्णव सक्सेना,रीना सिंह, मधु कीर्ति,पारुल वर्मा जंग,शिखा सूरी,सुनीता राय,जयश्री शुक्ला, स्वरा त्रिपाठी,रचना कपूर,अखिलेश मिश्रा,श्वेता भारद्वाज, नीरजा शुक्ला, आभा सिंह, अर्चना गोस्वामी,अनुराज सक्सेना,अनामिका मित्रा,पंकज श्रीवास्तव, डॉ अर्चना श्रीवास्तव, ज़ोया शमीम,अंशिका सक्सेना,श्वेता सिंह,अलका सिंह,मधु अग्रवाल, रेणुका सिंह,निहारिका,विकास यादव,राखी लाखन,अस्मत जमाल,डिंपल दत्ता, प्रतीक सरकार की प्रविष्टियां मुख्य रूप से आईं।


 

सेवा में,
जय माँ दुर्गा
आपको शत शत नमन।
हम लोग विकास की होड़ में आपके द्वारा प्रदान की गई इतनी सूंदर प्रकृति को दिन प्रतिदिन नुकसान पहूंचा रहे हैं। हर रोज पेड़ों को काट रहे हैं। हमे मालूम है आप हम लोगो से नाराज है और इस आपदा के समय मे आप ही हमें बचा सकती हैं। मैं आपसे वादा करता हूं अपने घर के आसपास पेड़-पौधे लगाऊंगा और लोगों को भी साफ सफाई के लिए शिक्षित करूँगा। आप हमें इस आपदा से रक्षा करे।
आपका नन्हा भक्त, अमर्त्य मित्रा

 

ओम साईराम # हे मेरे बाबा आप तो जगत के पालन करने वाले है है आप को सब पता है महामारी पूरी दुनिया में फैली हुई है, बाबा आपने शिर्डी में आई हुई तकलीफों को महामारी को दूर किया था आप कण-कण में हो बाबा आज फिर वही दवा जो आपने चक्की में डालकर पीस के हवाओं में फैलाई थी संसार में डाली थी आज वैसे ही दवा की जरूरत देश वासियों को है आप के बच्चों को है ,आप तो सब जानते हैं बाबा हम तो अज्ञान हैं इस महामारी से हम सब को बचाएं बाबा ,आपकी रहमत आपकी नज़र,आपकी क्रपा, हम सब पर बरसती रहे!ऊँ साईं राम जय जय साईं नाथ, जयश्री शुक्‍ला, लखनऊ

सेवा में, मेरे आराध्य ठाकुर जी। मैं स्वरा त्रिपाठी पौत्री दीनानाथ मणि त्रिपाठी निवासी लखनऊ अपने ठाकुर जी के चरणों मे सादर प्रणाम करती हूँ। मै अपने पत्र के माध्यम से ये बताना चाहती हूँ आपकों तो पता ही है इस समय करोना महामारी विश्व भर में फैली हुई हैऔर ये बढ़ती ही जा रही है।। मै आपसे हाथ जोड़कर ये प्रार्थना करती हूँ आप सर्व ज्ञाता है प्रभु इस महामारी को दूर करके हम प्राणियों का उद्धार करें और सभी को सद्बुद्धि प्रदान करें कि प्रकृति के साथ मिलकर चलने की कोशिश करें,प्रभु हम प्राणियों की रक्षा करे । आपकी चरणानुरागी स्वरा त्रिपाठी 13/1/27 विकास नगर। लखनऊ

ॐ नमः शिवाय मेरे आराध्य भोलेनाथ हैं जिनका मंत्र भी दीक्षा में मुझे प्राप्त हुआ है..शिव ही सृष्टि के पालक एवं संहारक हैं… हम अज्ञानी इंसान प्रकृति के साथ बहुत छेड़छाड़ करते हैं..मानव जन्म सर्वश्रेष्ठ माना गया है पर हम मानव स्वार्थ के वशीभूत हो कर दूसरों को कष्ट देने से बाज़ नहीं आते.. प्रभु आप अपने बच्चों की त्रुटियों को क्षमा कर दें विश्व को घोर संकट से बचाएं क्योंकि “क्षमा बड़न को चाहिए छोटन को उत्पात” इसलिए आपसे प्रार्थना है कि अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखें एवं संसार का कल्याण करें..हे कैलाशवासी हम सब आपकी शरण में हैं..भोलेनाथ की जय, नीरजा शुक्‍ला, लखनऊ

सेवा में,
माँ कामाख्या जी,
गुवाहाटी, भारत । विषय- कोरोना रूपी वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए हमे शक्ति प्रदान करने के संबंध में हे कामाख्या माँ जी, मैं अनुराज सक्सेना पुत्र श्री उमा शंकर सक्सेना आपसे प्रार्थना करता है कि ,जैसे कि हे माँ आपको मैं अपने माध्यम से अवगत कराना चाहता हूं कि इस समय पूरी पृथ्वी पर उपस्थित सभी प्राणी चाहे वो मनुष्य हो या फिर पशु पक्षी सभी एक वैश्विक महामारी से धीरे धीरे ग्रसित होते जा रहै है ।
हे माँ आप संसार में सबसे बड़ी, शक्तिशाली, समग्र ऐश्वर्ययुक्त, सर्वज्ञ व सर्वव्यापक गुणों वाली सत्ता है। हम आपसे प्रार्थना करते है कि वो सभी शक्तियाँ आप हम सभी प्राणियों को भी प्रदान करे । जिससे कि हम सभी मिल जुल कर इस वैश्विक महामारी से दृढ़ता से लड़ सके और इस वैश्विक लड़ाई में इस कोरोना नामक वाइरस को हम सभी आपसी सामंजस्य से मिल कर हरा दे ।
अतः आपसे एक विशेष प्रार्थना ये भी है कि इस लड़ाई में हम सभी की सुरक्षा में दृढ़ निश्यय के साथ अपने प्राणो को अपने हाथ मे रखकर सभी डॉक्टर, पुलिस कर्मचारी, सफाई कर्मचारी और जो भी है, जो कि हम सबकी सुरक्षा कर रहे है उनको विशेष शक्ति, मनोबल प्रदान कीजिये । क्योकि उन सभी का इस समय योगदान अति महत्वपूर्ण है ।
आप हम सभी प्राणियों पर अपनी विशेष कृपा बनाये रखना ।
धन्यवाद माँ आपका पुत्र,
अनुराज सक्सेना
लखनऊ

हे ईश्वर सादर प्रणाम और अभिनंदन,- पृथ्वी, जल ,वायु, अग्नि और आकाश इन पांच तत्वों से हमारे शरीर का निर्माण हुआ है। और हे ईश्वर इन पांचों तत्वों को आपने हमको उपहार स्वरूप दिया है लेकिन हमने आपके इस उपहार का सम्मान ना करते हुए आपके दिए हुए इस उपहार की अवहेलना की है उसका निरादर किया है जिसकी वजह से आज हम सब को एक आपदा रूपी करोना का सामना करना पड़ रहा है ।हम अपनी जिम्मेदारियों को भूल चुके हैं जिस प्रकार आप अपनी जिम्मेदारियों से विमुक्त नहीं होते हैं जिस प्रकार सूरज और चंद्रमा अपने समय से उदय होते हैं और अस्त होते हैं और अपने प्रकाश से हमको नया जीवन देते हैं हमारे अंदर ऊर्जा का संचार करते हैं इसके लिए हम आपके बेहद आभारी हैं लेकिन जो हमने आपका निरादर किया है उसके लिए हम आपसे क्षमा प्रार्थी हैं आशा करती हूं कि आप अपने इस तुच्छ भक्त को क्षमा प्रदान करेंगे और अपनी आभा का प्रकाश हमेशा हमारे जीवन में प्रदान करते रहेंगे। आपकी तुच्छ भक्त रितु गुप्ता