Tuesday , December 7 2021

न परचा बनवाने की जरूरत, न लाइन लगने की, सीधे आइये और डॉक्‍टर को दिखाइये

 

एक साल का कार्यकाल पूरा होने पर बलरामपुर अस्‍पताल में मिल रही सुविधाओं और निकट भविष्‍य में मिलने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी दी निदेशक ने

 

लखनऊ। न पर्चा बनवाने के लिए लम्‍बी कतारों में खड़े होना, न ही डॉक्‍टर के कमरे के बाहर लगी लाइन में लगना, सीधे डॉक्‍टर के पास पहुंचकर दिखाने की सुविधा बलरामपुर अस्‍पताल में दी जा रही है। यह संभव हो पाया है ओपीडी में ई सेवा से, अब इस ई सुविधा का विस्‍तार वार्डों में भी किया जा रहा है। यह जानकारी मंगलवार को अस्‍प्‍ताल में आयोजित एक पत्रकार वार्ता में निदेशक डॉ राजीव लोचन ने अपने एक साल का कार्यकाल पूरा होने पर अपनी उपलब्धियां गिनाते हुए दी।

 

उन्‍होंने बताया कि अस्‍पताल में ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा चल रही है। इसके तहत मरीज को अस्‍पताल की साइट पर जाकर टेली‍मेडिसिन पर क्लिक कर सकते हैं। इसमें दो ऑप्‍शन मिलेंगे ऑनलाइन अप्‍वाइंटमेंट का और अपना हाल लिखकर डॉक्‍टर की राय लेने का। उन्‍होंने बताया कि यदि आप अस्‍पताल आकर पर्चा बनवाने की लाइन और डॉक्‍टर को दिखाने के लिए लगने वाली कतार से बचना चाहते हैं तो ऑनलाइन अप्‍वाइंटमेंट वाला विकल्‍प चुन सकते हैं। इस विकल्‍प को चुनने के बाद आपको एक मैसेज प्राप्‍त होगा जिसमें आपको अप्‍वाइंटमेंट की तारीख लिखी होगी। उस तारीख पर अस्‍पताल आकर सीधे डॉक्‍टर के पास मोबाइल पर आया हुआ मैसेज दिखाकर मरीज को दिखा सकते हैं। उन्‍होंने बताया कि इस सिस्‍टम के तहत एक दिन में 500 मरीजों को अप्‍वाइंटमेंट देने की सुविधा रखी गयी है क्‍योंकि जो रोगी सीधे अस्‍पताल आते हैं और लाइन लगकर परचा बनवाते और डॉक्‍टर को दिखाते हैं, उनका खयाल भी रखना है कि डॉक्‍टर उन्‍हें भी देख सकें।

बिना बीमारी वाले वृद्धजनों की भी देखभाल

डॉ लोचन ने बताया कि इसके अलावा भारत सरकार की योजना के तहत वृद्धजनों के लिए 10 बेड का वृद्धजन वार्ड बनाया गया है जिसमें वृद्ध बीमार न हो तब भी 15 दिनों के लिए रह सकता है, इस दौरान उसकी व्‍यक्तिगत देखभाल, नाश्‍ता, खाना फ्री में उपलब्‍ध कराया जाता है इन 10 बेड में 8 बेड एक वार्ड में तथा दो बेड प्राइवेट कमरों में हैं।

गरीब मरीजों के रिश्‍तेदारों के लिए फ्री भोजन की व्‍यवस्‍था

डॉ लोचन ने बताया कि अस्‍पताल में प्रसादम नाम से गरीब मरीजों के तीमारदारों के लिए एक रसोई का निर्माण कराया गया है, इसे विजय श्री फाउंडेशन चलायेगी जहां गरीब भर्ती मरीजों के तीमारदारों को डॉक्‍टर द्वारा जारी किये गये कूपन के अनुसार फ्री में भोजन उपलब्‍ध कराया जायेगा।

 

16 बिस्‍तरों वाला आईसीयू जल्‍दी शुरू होने की आशा

 

डॉ लोचन ने बताया कि अस्‍पताल में शीघ्र ही 16 बेड के एक आईसीयू शुरू की जायेगी, जिसके लिए बेड मशीनें आदि सब आ चुकी हैं, उसमें कार्य करने वाले लोगों की स्‍वीकृति प्राप्‍त होते ही इसे शुरू कर दिया जायेगा। इसी प्रकार एमआरआई की सुविधा भी जल्‍द शुरू होगी।

आधुनिक मशीनों से सुसज्जित डेंटल यूनिट

उन्‍होंने बताया कि‍ अस्‍पताल में बहुत अच्‍छी आधुनिक डेंटल यूनिट तैयार की गयी है जिसमें दांत की चिकित्‍सा की आधुनिक मशीनें लगी हैं, उन्‍होंने बताया कि रूट कैनाल शीघ्र हो सके इसके लिए पल्‍प रोटेटर भी मौजूद है।

 

ब्रेस्‍ट कैंसर की जांच की सुविधा

डॉ लोचन ने बताया कि अस्‍पताल में अत्‍याधुनिक अल्‍ट्रासाउंड मशीन उपलब्‍ध है जो स्‍तन की गांठों को पता लगायेगी और गांठ दिखने पर वह कैंसरयुक्‍त है या नहीं इसके लिए गांठ के टुकड़े की जांच की भी सुविधा होगी। अगर कैंसर निकलता है तो उसे उपचार के लिए केजीएमयू रेफर किया जायेगा क्‍योंकि यहां कैंसर के इलाज की सुविधा अभी नहीं है।

 

इसके अलावा उन्‍होंने बताया कि सभी हाईपावर वाली पोर्टेबुल एक्‍स रे मशीन से जांच, सीटी स्‍कैन व पैथोलॉजी जांचें चौबीसों घंटे रोजाना दी जा रही हैं, इसकी रिपोर्ट ऑनलाइन मिलने की भी सुविधा है। उन्‍होंने बताया कि हृदय रोग विभाग का उच्‍चीकरण, सुपर स्‍पेशियलिटी ब्‍लॉक का विस्‍तारीकरण, टू डी इंडोस्‍कोपी, टीएमटी, मर्च्‍युरी में दो हाई क्‍वालिटी चिलर, कलर डॉप्‍लर एवं हाई डेंसिटी प्रोब युक्‍त अल्ट्रासाउन्‍ड, ओटी में घुसने से पूर्व बिना कपड़े एवं जूते बदले प्रवेश रोकने के लिए ओटी की संरचना में बदलाव, भीषण सर्दी में सभी वार्डों में हैलोजन रूम हीटर, वार्डों तक सीधी पहुंच रखने वाला मरीजों को ले जाने के लिए ई रिक्‍शा, टीवी सुविधा युक्‍त अटल रैन बसेरा, सभी ओटी में अत्‍याधुनिक सुविधाएं उपलब्‍ध करायी गयी हैं। पत्रकार वार्ता में मुख्‍य चिकित्‍सा अधीक्षक डॉ आर के सक्‍सेना भी उपस्थित रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 − 6 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.