इस तरह से टीबी का एक भी मरीज नहीं छूटेगा बिना इलाज के

टीबी को जड़ से खत्‍म करने के लिए घर-घर जाकर खोज रहे मरीज

सक्रिय टीबी मुक्‍त लखनऊ अभियान का शुभारम्‍भ

 

खनऊ। धन्वन्तरि सेवा संस्थान के तत्वावधान में सक्रिय टीबी मुक्त लखनऊ अभियान का मालवीय नगर, ऐशबाग वार्ड में आज शुभारंभ हुआ। इस अभियान के तहत मालवीय नगर, ऐशबाग वार्ड में आने वाली श्रमिक बस्तियों में संस्थान के कार्यकर्ता घर-घर जाकर टीबी रोग के बारे में लोगों को जागरूक करने का कार्य करेंगे, इसके साथ अभियान में लक्षण वाले रोगियों को संबंधित जांचें एवं उपचार कराने में हर संभव मदद करेंगे। इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए रेस्पिरेट्री मेडिसिन केजीएमयू, CETI और AAPI जैसी संस्थाएं धन्वन्तरि सेवा संस्थान का सहयोग करेंगी।

दुनिया के 27 प्रतिशत टीबी रोगी भारत में

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया, विशिष्ट अतिथि के रूप में साकेत शर्मा उपस्थित रहे। धन्वन्तरि सेवा संस्थान के अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश टास्क फोर्स क्षय नियंत्रण के चेयरमैन डॉ सूर्यकांत ने बताया कि टीबी भारत की ही नहीं बल्कि विश्व की एक प्रमुख समस्या है, दुनिया के 27% टीबी रोगी भारत में रहते हैं। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 13 मार्च 2018 को घोषणा की थी कि भारत को 2025 तक जनसहयोग से टीबी मुक्त बनाया जाएगा। इसके अनुरूप 2 नवंबर 2018 को डॉ सूर्यकांत की अगुवाई में लखनऊ को टीबी मुक्त बनाने का शुभारंभ किया गया, इसी क्रम में मालवीय नगर, ऐशबाग वार्ड को पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर टीबी मुक्त करने का संकल्प लिया गया।

 

अभियान में हरसंभव सहयोग का महापौर ने दिया आश्‍वासन

महापौर संयुक्ता भाटिया ने बताया कि टीबी को खत्म करने के लिए हमारी तरफ से जो उचित सहयोग संस्थान को चाहिए वह सब मुहैया कराया जाएगा और रवींद्र सिंह गंगवार, कल्पना गंगवार, लता उपाध्याय, डॉ मनोज पांडे, डॉ अमित शर्मा, संतोष पटेल, अपेक्षा दलाल उपस्थित रहे।