Tuesday , August 16 2022

वाह रे अन्धविश्वास : इसलिए की पत्नी की पिटाई क्योंकि उसने पूर्णमासी को गर्भ धारण किया

महिला की शिकायत पर पुलिस ने उसके पति, सास-ससुर और दो ननदों को गिरफ्तार किया

 

भले ही हम 21वीं सदी में पहुँच गए हैं, हमने चाहे जितनी ही तरक्की क्यों न कर ली हो लेकिन अंधविश्वास के किस्से अभी भी सुनाई पड़ते रहते हैं. यह अंधविश्वास का दीमक अभी भी कहीं-न-कहीं समाज को खोखला बना रहा है. अंधविश्वास का ऐसा ही एक मामला IT हब माने जाने वाले महाराष्ट्र के शहर पुणे से सामने आया है. यहां पिंपरी चिंचवड़ के थोरगांव में रहने वाले एक अंधविश्वासी व्यक्ति ने अपनी गर्भवती पत्नी की सिर्फ इसलिए बेरहमी से पिटाई कर दी क्योंकि उसने पूर्णिमा के दिन गर्भधारण किया था. उसने पत्नी के पेट पर घूंसे भी मारे. हालांकि अस्पताल में इलाज के लिए जाने पर डॉक्टरों ने बताया कि बच्चा ठीक है. महिला की शिकायत पर पुलिस ने उसके पति, सास-ससुर और दो ननदों को गिरफ्तार किया है.

 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार महिला ने पुलिस को बताया कि उसकी शादी 2017 में हुई थी. पहले तो उसके गर्भवती होने की खबर सुनकर परिवार वाले बहुत खुश हुए. लेकिन, जैसे ही उन्हें पता चला कि गर्भधारण पूर्णिमा के दिन हुआ है, वह उसे मानसिक और शारीरिक यातनाएं देने लगे. दरअसल, महिला के पति को किसी ने बताया था कि पू्र्णिमा पर गर्भधारण होने से बेटी पैदा होती है और परिवार वालों को बेटा चाहिए.

महिला ने बीते रविवार वाकड़ पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद उसके पति, सास-ससुर और दो ननदों को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस उपायुक्त गणेश शिंदे के अनुसार पीड़ित महिला अपने पति और ससुराल वालों के साथ थोरगांव में एक किराए के मकान में रहती है. उसका 28 वर्षीय पति एक प्राइवेट कंपनी में मैनेजर के पद पर काम करता है. पुलिस उपायुक्त ने बताया कि मामले में IPC की धारा 315 (शिशु को जीवित पैदा होने से रोकने) के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है.

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि उसके ससुराल वाले जबरदस्ती उसका गर्भपात करवाना चाहते थे. वो उससे इस तरह की एक्सरसाइज करने के लिए कहते जिससे उसका गर्भपात हो जाए. उसने बताया कि वह जब गर्भवती हुई तो उसका पति और घर वाले उसे मानसिक और शारीरिक प्रताड़ना देने लगे. बीते शनिवार को पति और ससुराल वालों ने बेरहमी से उसके पेट पर घूंसे मारे. किसी तरह वह वहां से बचकर पुलिस के पास पहुंची. आपको बता दें कि  पुलिसकर्मियों ने ही महिला को अस्पताल पहुंचाया.

वहीं, पूरे मामले पर अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के सदस्य मिलिंद देशमुख ने कहा कि पढ़े-लिखे लोगों द्वारा इतना अंधविश्वासी होना निराशाजनक है. पुलिस मामले की जांच कर रही है और हमारी कोशिश होगी कि दोषियों को सख्त सजा मिले.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

20 − 6 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.