लीजिये लग गया अब सोने का घुटना, हो गयी फुरसत 40-45 साल की

मेयो मेडिकल सेंटर में हुआ लखनऊ का पहला गोल्ड नी रिप्लेसमेंट

 लखनऊ। पंकल उधास की गायी हुई एक गजल की पंक्ति है ‘चांदी जैसा रूप है तेरा, सोने जैसे बाल …’ इसमें शायर ने प्रेमिका के बालों की तुलना सोने से की है लेकिन बाल तो नहीं हां सोने का घुटना लगाने की खबर जरूर हम आपको बताने जा रहे हैं। उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित मेयो मेडिकल सेंटर मे ‘ गोल्ड नी रिप्लेसमेंट’ किया गया है। लखनऊ में किया जाने वाला यह पहला रिप्लेसमेंट है।

 

यह जानकारी देते हुए सेंटर की मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ मधुलिका सिंह ने बताया कि गोमती नगर स्थित मेयो मेडिकल सेंटर ज्वाइंट रिप्लेसमेन्ट घुटना प्रत्यारोपण सर्जरी शुरू करने वाला प्रदेश का पहला सेंटर है। इसी क्रम में सेंटर ने नया कीर्तिमान स्थापित किया। नी रिप्लेसमेंट में किये गए इस नए प्रयोग के बारे में सेंटर के हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ आरपी सिंह ने बताया कि अमूमन घुटना प्रत्यारोपण ( नी रिप्लेसमेंट) में जो उपकरण लगाया जाता है उसमें मेटल का प्रयोग किया जाता है। कभी कभी इस उपकरण में लगे धातु से मरीज को एलर्जी हो जाती है। इसके कारण मरीज को काफी परेशानी उठानी पड़ती है। इसके लिए उन्हें लंबे समय तक एन्टी एलर्जिक दवाएं भी लेनी पड़ती हैं। उन्‍होंने बताया‍ कि आधुनिक तकनीक से बने इस नए उपकरण में मेटल की जगह सोने का प्रयोग किया गया है।

इस बारे में सेंटर की डायरेक्टर स्निग्‍धा सिंह ने बताया कि मेयो मेडिकल सेंटर में रियायती दर पर घुटना प्रत्यारोपण किया जाता है। सेंटर में डेढ़ लाख रुपये में घुटना प्रत्यारोपण किया जाता है जबकि अन्य केंद्रों में इसकी लागत ढाई लाख से तीन लाख आती है। गोल्ड नी इम्प्लांट से होने वाले प्रत्यारोपण की लागत 1.70 लाख आती है, इसके साथ ही यह लम्‍बे समय तक चलता है। मेटल वाले उपकरण जो प्रत्यारोपण मे लगाया जाता है वह अमूमन 25 से 30 साल चलते है वहीं गोल्डन नी 40 से 45 साल तक चलता है। इसमें किसी तरह की एलर्जी की आशंका भी नहीं होती।