Wednesday , November 10 2021

स्वच्छता अभियान व मनरेगा योजना में अब डेंगू नियंत्रण कार्य भी

सिद्धार्थनाथ सिंह

लखनऊ। प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने डेंगू के नियंत्रण के लिए प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सभी शासकीय चिकित्सालयों में डेंगू के नि:शुल्क उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए और इस रोग से ग्रसित मरीजों को किसी भी प्रकार अस्पताल में असुविधा नहीं होनी चाहिए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि डेंगू नियंत्रण के कार्यों को स्वच्छता अभियान एवं महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) में शामिल किया जाए। उन्होंने कहा कि डेंगू के नियंत्रण एवं रोकथाम में ग्राम स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति का हर स्तर पर पूर्ण सहयोग प्राप्त किया जाए।

डेंगू की त्वरित गुणवत्तापूर्ण जांच की व्यवस्था रखें

श्री सिंह आज यहां डेंगू नियंत्रण कार्यक्रम की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अरुण कुमार सिन्हा को निर्देश दिए कि प्रदेश में राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम में किसी भी प्रकार की शिथिलता नही बरती जानी चाहिए। सभी चिकित्सालयों में आकस्मिक निरीक्षण की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि देश में डेंगू रैपिड किट का बाजार अनियमित है। इसलिए डेंगू की त्वरित गुणवत्तापूर्ण जांच हेतु गाइडलाइन बनाकर उनका पालन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने डेंगू नियंत्रण के प्रभावी संचालन हेतु समस्त चिकित्सकों, अधिकारियों और कर्मियों को प्रशिक्षण दिलाने के भी निर्देश दिए हैं।

निजी क्षेत्र के लिए अनुमोदित डेंगू उपचार पर एकरूपता लायें

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने निर्देश दिए कि स्थानीय निकाय के अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर सफाई व्यवस्था व्यवस्था का दुरुस्त करना, ड्रेनेज सिस्टम को सुचारु बनाने सहित सभी आवश्यक व्यवस्थाएं पहले ही सुनिश्चित कर ली जाएं। उन्होंने गैर सरकारी चिकित्सालयों/चिकित्सकों के लिए अनुमोदित डेंगू उपचार के संबंध में एकरूपता लाए जाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने इसके व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए सभी कदम उठाने के निर्देश दिए।

प्रदेशवासियों से भी की अपील

श्री सिंह ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि वे डेंगू नियंत्रण कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए कूलर, छत, गमले, पक्षियों/जानवरों हेतु पीने के लिए एकत्रित पानी हर सप्ताह अवश्य बदलें। ओवरहेड टैंकों को ढंक कर रखें। कबाड़ में नारियल के खोल, खाली टायरों, प्लास्टिक या शीशे के कन्टेनरों में अथवा छतों पर पानी बिलकुल ही एकत्रित न होने दें। उन्होंने दरवाजें, खिडक़ी एवं रोशनदान में मच्छररोधी जालियों के प्रयोग की भी अपील की है।

केजीएमयू, लोहिया संस्थान, पीजीआई व स्वास्थ्य भवन में होगा एलाइजा टेस्ट

अपर मुख्य सचिव ने अवगत कराया कि डेंगू रोग के रोकथाम के लिए सभी आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित कर ली गई है। सरकारी चिकित्सालयों में डेंगू रोग का नि:शुल्क उपचार के साथ ही जांच की व्यवस्था सुलभ है। उन्होंने यह भी बताया कि लखनऊ में केजीएमयू, डॉ.राम मनोहर लोहिया संस्थान, एसजीपीजीआई एवं स्वास्थ्य भवन में भी एलाइजा टेस्ट की व्यवस्था की गई है। डेंगू रोग के संबंध में व्यापक जानकारी के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के कार्यालय में कंट्रोल रुम भी स्थापित किये जा रहे हैं। इस अवसर पर महानिदेशक, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य डॉ. पद्माकर सिंह सहित वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × one =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.