नीट के तहत एमबीबीएस व बीडीएस में प्रवेश के लिए काउंसलिंग 15 जुलाई से

 डॉ. अनिता भटनागर जैन

पंजीकरण की प्रक्रिया 5 से 8 जुलाई तक

लखनऊ। एमबीबीएस व बीडीएस में प्रवेश के लिए काउंसलिंग 15 जुलाई से शुरू होगी। नीट परीक्षा के उपरांत कांउसलिंग में शामिल होने के लिए 5 से 8 जुलाई तक पंजीकरण कराना होगा।
यह जानकारी अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ. अनिता भटनागर जैन ने देते हुए कहा कि प्रदेश के सभी निजी एवं राजकीय मेडिकल तथा डेण्टल कालेजों की 6991 सीटों के लिए कम्बाइड काउन्सिलिंग कराई जायेगी।
डॉ. जैन ने बताया कि प्रदेश में 15 सरकारी और 21 प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएम तथा बीडीएस पाठयक्रमों के शैक्षणिक सत्र 2017-18 के लिए तैयारियां पूरी हो चुकी है। प्रदेश में एमबीबीएस की कुल 4640 सीटें हैं जिसमें से केजीएमयू की 265 सीट समेत सरकारी क्षेत्र में 1990 सीटें तथा निजी क्षेत्र में 2650 सीटें उपलब्ध हैं । इसी प्रकार 23 प्राइवेट डेण्टल कालेज में बीडीएस की 2300 सीट एवं राजकीय क्षेत्र में केजीमएयू की मात्र 51 सीट उपलब्ध हैं ।

सरकारी मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश के लिए है शर्त

डॉ. जैन ने बताया कि ऑन-लाइन रजिस्ट्रेशन, काउंसलिंग एवं प्रवेश आदि के लिए एनआईसी को तकनीकी संस्था के रूप में नामित किया गया है। काउसलिंग के लिए छात्र 5-8 जुलाई के मध्य चार दिन तक अपना पंजीकरण करा सकते हैं। उन्होंने बताया कि सरकारी मेडिकल कॉलेजों में प्रदेश में ही हाईस्कूल एवं इण्डमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण करने वालों को अवसर मिलेगा। अगर दोनों परीक्षाओं में से यदि एक परीक्षा प्रदेश से उत्तीर्ण की है, तो सामान्य निवास प्रमाण पत्र यदि दोनों परीक्षायें प्रदेश के बाहर से उत्तीर्ण की है, तो मूल निवास प्रमाण पत्र अनिवार्य होगा।

प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों के लिए आरक्षण लागू नहीं होगा

निजी क्षेत्र हेतु नीट -2017 की मेरिट सूची में शामिल अभ्यर्थी, जिन्होंने ऑन-लाइन पंजीकरण कराया हो, पात्र होगें। काउन्सिलिंग बोर्ड में पिछड़ा वर्ग का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया गया है। काउंसलिंग में नियमानुसार आरक्षण लागू होगा लेकिन निजी क्षेत्र में कोई आरक्षण लागू नहीं है।

12 मेडिकल कॉलेजों में होगी प्रमाण पत्रों की जांच

पंजीकरण के उपरान्त छात्रों के अभ्यर्थीयों के दस्तावेजों की जांच की जाएगी। आवेदक अभ्यर्थी अपने, शैक्षणिक, निवास, आरक्षण से संबंधित अभिलेखों का सत्यापन प्रदेश के 12 सरकारी मेडिकल कॉलेजों में करा सकेंगे। उक्त 12 कॉलेजों में आजमगढ़, जालौन, कन्नौज, बांदा, इलाहाबाद, कानपुर, आगरा, मेरठ, गोरखपुर, झॉसी, अम्बेडकरनगर, सहारनपुर, केजीएमयू, आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई(इटावा) एवं डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान, लखनऊ शामिल है।