भव्‍य कलश यात्रा के साथ गायत्री परिवार के दो दिवसीय 51 कुण्‍डीय यज्ञ का शंखनाद

पीत वस्‍त्रधारी स्‍त्री–पुरुषों ने गगनभेदी नारों के साथ कलश यात्रा में भाग लिया

लखनऊ। गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में राजधानी लखनऊ में होने वाले 51 कुण्‍डीय यज्ञ के लिए बुधवार को भव्‍य कलश यात्रा निकाल कर यज्ञ का शंखनाद किया गया। कलश यात्रा में विशेष प्रदेश की मंञी श्‍वेता सिंह के साथ ही गायत्री परिवार के पीत वस्‍त्रधारी कार्यकर्ता पुरुष-स्‍त्रि‍यों ने भाग लिया। आशियाना कथा पार्क सेक्टर-जे में 8 एवं 9 दिसम्‍बर को होने वाले इस यज्ञ में अखिल विश्‍व गायत्री परिवार के डॉ चिन्‍मय पण्‍ड्या भी भाग लेंगे।

कलश यात्रा में ‘‘हम बदलेगें, युग बदलेगा,  हम सुधरेगें युग सुधरेगा।। मानव मात्र एक समान, एक पिता की संतान।।, नर-नारी एक समान, जातिवंश सब एक समान।। माँ का मस्तक ऊँचा होगा, त्याग और बलिदान से।। एक बनेगें – नेक बनेंगे। खर्चीली शादी हमें दरिद्र बेईमान बनाती है।’’ 21वीं सदी उज्जवल भविष्य जैसे नारे लग रहे थे।

कार्यक्रम के मुख्य मीडिया प्रभारी उमानंद शर्मा ने बताया कि सुबह 10 बजे निकली कलश यात्रा ने लगभग 5 किलोमीटर की दूरी तय की। कलश यात्रा  आशियाना पावर हाउस, विशाल मेगा मार्ट, बंगला बाजार चौकी, आशियाना थाना इत्यादि मार्गों से होते हुए यज्ञ पण्डाल में वापस आयी। उन्‍होंने बताया कि यज्ञ पण्डाल में विशाल मेला एवं युग ऋषि के जीवन दर्शन पर प्रदर्शनी भी लगायी गयी है।

श्री शर्मा ने बताया कि 7 दिसम्बर को ध्यान, जप, प्रज्ञा योग प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक तथा 8 बजे से 11 बजे तक 51 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ प्रारम्भ हो जायेगा। इसके अलावा अपरान्‍ह 3 बजे से सायं 4 बजे तक कार्यकर्ता गोष्ठी होगी तथा  सायं 6 बजे से 9 बजे तक संगीत-प्रवचन होंगे। उन्होंने बताया कि 8 दिसम्बर को सायंकाल सत्र में विशाल युवा सम्मेलन होगा जिसके मुख्य वक्ता डॉ चिन्मय पण्ड्या एवं मुख्य अतिथि उत्‍तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायन दीक्षित होगें। श्री शर्मा ने राजधानी वासियों से अपील की है कि मानव एवं प्राणी मात्र के कल्याण एवं विश्व शांति के लिए होने वाले देव कार्य में सपरिवार भागीदारी करें। उन्‍होंने यह भी कहा कि इस अवसर पर सभी संस्कार भी समय-समय पर होंगे।