देश की एक चौथाई आबादी एलर्जी की समस्या से पीड़ित

तीन दिवसीय 51st ICAAICON का आयोजन 16 से

लखनऊ. किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय व एरा विश्वविद्यालय लखनऊ के संयुक्त तत्वावधान में एलर्जी एवं अस्थमा की 51वीं वार्षिक संगोष्ठी 51st ICAAICON का आयोजन किया जा रहा है। यह संगोष्ठी 16 से 18 मार्च तक किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के साइटफिक कन्वेंशन सेन्टर में आयोजित की जायेगी।

 

संगोष्ठी के आयोजन सचिव डा0 सूर्यकान्त ने बताया कि आज हमारे देश मे एलर्जी की समस्या काफी बढ़ गयी है। भारत मे लगभग 20-25 प्रतिशत आबादी एलर्जी की समस्या से पीड़ित है, जिसमे दमा, नजला व आर्टिकेरिया आदि बीमारिंया प्रमुख है। इसके साथ ही हमारे देश में तीन करोड़ लोग अस्थमा से भी पीड़ित है।  चिकित्सा जगत में हो रहे शोध एवं अनुसंधान का लाभ समाज के अभाव ग्रस्त और पीड़ित लोगों को मिलना चाहिये। डा0 सूर्यकान्त ने बताया कि इस राष्ट्रीय संगोष्ठी मे अंतरराष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय विशेषज्ञों द्वारा वैज्ञानिक विचार विमर्श के बाद देश के चिकित्सकों को मार्गदर्शन मिलेगा एवं रोगियों तथा समाज को इसका लाभ प्राप्त होगा।

 

संगोष्ठी के आयोजन अध्यक्ष डा राजेन्द्र प्रसाद ने बताया कि संगोष्ठी मे 50 से अधिक वक्ता एवं 500 प्रतिनिधि सम्मलित होगे जिससे एलर्जी के क्षेत्र मे नई शोध के अवसर मिलेंगे।

 

डा सूर्यकान्त एवं डा राजेन्द्र प्रसाद ने बताया कि इस संगोष्ठी मे अंतरराष्ट्रीय स्तर के एलर्जी के विषेषज्ञ सम्मलित होगे। अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों मे अमेरिका से डा सुजाता रमेश, डा दीपा रस्तोगी, डा शान्तनु रस्तोगी एवं डा पीके वेदान्तन, यूके से डा जेम्स हिन्डली, नीदरलैण्डस से डा रोनाल्ड वान री एवं श्रीलंका से डा अनुरा वीरा सिंग्हें शामिल हैं। राष्ट्रीय स्तर के एलर्जी के विषेषज्ञ डा ए के जनमेजा, डा ए बी सिंह, डा एसएन गौर, डा वीके विजयन, डा राजकुमार, डा एस के कटियार, डा के नागाराजू आदि शामिल होगें। डा राजेन्द्र प्रसाद ने बताया कि संगोष्ठी का उद्घाटन 16 मार्च को किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के साइंटफिक कन्वेंशन सेन्टर में चिकित्सा शिक्षा मंत्री आषुतोष टण्डन द्वारा किया जायेगा।