शराब पीकर ड्यूटी करते मिले संयुक्त चिकित्सालय के सीएमएस

सिद्धार्थनाथ सिंह

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने संयुक्त चिकित्सालय सोनभद्र में शराब पीकर ड्यूटी करते पाये गये मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. रवीन्द्र बाबू गौतम के खिलाफ तत्काल जांच के आदेश दिए हैं।
उल्लेखनीय है कि गत 7 मई को प्रदेश की भूतत्व एवं खनिकर्म, आबकारी तथा मद्य निषेध राज्यमंत्री अर्चना पाण्डेय ने संयुक्त चिकित्सालय का औचक निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान उन्हें अस्पताल के सीएमएस ड्यूटी के दौरान नशे में धुत मिले थे। उन्होंने तत्काल सीएमएस का चिकित्सकीय परीक्षण कराने के निर्देश दिए और पूरी वस्तुस्थिति से स्वास्थ्य मंत्री को भी अवगत कराया।
स्वास्थ्य मंत्री ने मामले को गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी को सख्त निर्देश दिए हैं कि तत्काल पूरे प्रकरण की जांच कराई जाय। जांच में पूरी पारदर्शिता हो इसके लिए सीएमएस के चार्ज को भी किसी अन्य डाक्टर को सौंपने के निर्देश दिए हैं।

सीएचसी के डॉक्टर भी पीने में पीछे नहीं

उत्तर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने आज जनपद सिद्धार्थनगर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र उसका बाजार का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मरीजों एवं तीमारदारों ने अस्पताल के चिकित्सकों पर शराब पीकर ड्यूटी करने, मरीजों को न देखने तथा बिना उचित कारण के मरीजों को रेफर करने जैसे गम्भीर आरोप लगाये।
स्वास्थ्य मंत्री ने शिकायतों को गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी को तत्काल जांच के आदेश दिए। उन्होंने कहा कि इस तरह का कृत्य किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा, जो चिकित्सक दोषी पाये जायेंगे उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होगी। उन्होंने प्रदेश के समस्त चिकित्सकों को अगाह किया कि यदि इस प्रकार की घटना उनके संज्ञान में आएगी तो सम्बन्धित को बख्शा नहीं जायेगा और उसके खिलाफ विधिक कार्रवाई की जायेगी।

स्वास्थ्य मंत्री ने घायल सिपाही को अस्पताल में भर्ती कराया

सिद्धार्थ नाथ सिंह आज जब सिद्धार्थ नगर से लखनऊ वापस आ रहे थे, तो उन्हें फैजाबाद-लखनऊ मार्ग पर दादरा चैराहे (सफदरगंज थाना, बाराबंकी) के पास एक सिपाही मोहित वर्मा घायल अवस्था में मिला।
घायल सिपाही को देखकर स्वास्थ्य मंत्री ने अपनी गाड़ी रूकवाई और तुरन्त एनएचआई एम्बुलेंस बुलाकर उसे बाराबंकी जिला अस्पताल में भर्ती करवाया। उन्होंने बाराबंकी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को घायल सिपाही का बेहतर इलाज किए जाने के निर्देश दिए।