Tuesday , August 16 2022

बोर्ड परीक्षाओं से घबराहट दूर करेंगी मीठी गोलियां

डॉ अनुरुद्ध वर्मा

लखनऊ। हाइस्कूल और इण्टरमीडिएट की परीक्षायें शुरू हो रही है। अभिभावक परेशान हैं कि उनके बच्चों को कैसे अच्छे अंक मिलें और छात्र परेशान हैं कि वह कैसे अच्छे अंक लाकर अपने माता-पिता के लाडले बने रहें और अपना भविष्य सुरक्षित बनायें।

एक्जाम फोबिया से होती हैं अनेक परेशानियां

इस बारे में वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक एवं केन्द्रीय होम्योपैथी परिषद के सदस्य डॉ अनुरुद्ध वर्मा कहते हैं कि परीक्षा का मौसम कभी-कभी छात्रों के लिए अनेक परेशानियां भी लेकर आता है। परीक्षा के डर से होने वाली परेशानियों को चिकित्सीय भाषा में एक्जा़म फीवर या फोबिया कहते है, इससे बच्चों में अनेक परेशानियां भी उत्पन्न हो सकती है जैसे- बच्चों का मन पढ़ाई के दौरान एकाग्र नहीं हो पाता है परीक्षा कक्ष काल कोठरी जैसा लगता है उसमें प्रवेश से पहले अजीब सी बेचैनी, घबराहट एवं सिहरन होने लगती है, पसीना आता है बार-बार पेशाब व दस्त की शिकायत हो जाती है, याद किया हुआ भूल जाता है, बार-बार आत्महत्या का विचार आता है, नींद उड़ जाती है, फेल हो जाने के भय सताता है। छात्रों की इन तमाम परेशानियों को दूर करने की ताकत है होम्योपैथी की मीठी-मीठी गोलियों में।

कमरे में कैद न हों, कुछ मनोरंजन भी करें

उन्होंने बताया कि एक्जा़म फीवर एक मानसिक परेशानी है इससे लगभग 30 से 40 प्रतिशत छात्र प्रभावित होते है। परीक्षा में अच्छे अंकों से पास होने का दबाव इसकी सबसे बड़ी वजह है, ज्यादातर यह दबाव अभिभावकों द्वारा बनाया जाता है जिसके कारण बच्चे परीक्षा के दौरान एक कमरे में कैद हो कर रह जाते हैं। परीक्षा के दौरान खाने-पीने का रूटीन बदल जाता है। यह स्थिति ठीक नहीं है, परीक्षा के दौरान बच्चों को कमरे में कैद होने के बजाए, पढ़ाई के साथ-साथ थोड़ा घूमना-फिरना तथा मनोरंजन भी जरूरी है। अभिभावकों को चाहिए कि वह बच्चों के धैर्य को बनाए रखने में उनकी सहायता करें। छात्रों को किसी भी परीक्षा से डरने की जरूरत नहीं है। क्योंकि परीक्षा भी पढ़ाई का हिस्सा है।

जाते समय डर लगे तो…

उन्होंने बताया कि होम्योपैथी में परीक्षा के दौरान होने वाली परेशानियों से निजात दिलाने की अनेक कारगर औषधियां उपलब्ध हैं सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इनका शरीर पर कोई कुप्रभाव भी नहीं पड़ता है। यदि परीक्षा में जाते समय डर लगे तो लाइकोपोडियम 30 एवं साइलीसिया 30 का प्रयोग किया जा सकता है। यदि परीक्षा के समय सिर दर्द बार-बार पेशाब लगने, दस्त एवं घबराहट की शिकायत हो तो जेल्सीमियम 30 एवं अर्जेंन्ट्रम नाइट्रिकम 30 का प्रयोग लाभदायक हो सकता है।

अनिद्रा की शिकायत हो तो…

डॉ वर्मा ने बताया कि परीक्षा की तारीख पास आने पर ज्यादातर बच्चों में अनिद्रा की शिकायत हो जाती है इन बच्चों के लिए नक्स वोमिका 30 फायदेमंद होती है। परीक्षा की पूरी तैयारी के बाद भी लगे कि कुछ याद नहीं है तो एनाकार्डिंयम 30 एवं कालीफॉस 6 का प्रयोग किया जा सकता है। कुछ छात्र परीक्षा के दौरान ज्यादा तैयारी के लिए नींद न आने वाली दवाइयां ले लेते हैं जो स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित नहीं है। सिर पर सवार परीक्षा ने छात्रों के लिए होली का रंग फीका कर दिया है, उन्होंने सलाह दी कि होली के दौरान छात्रों को रंग खेलने से परहेज करना चाहिए क्योंकि यदि रंग आंख मे पड गया तो आंख में दर्द एवं जलन हो सकती है जो छात्र की परीक्षा में व्यवधान उत्पन्न कर सकती है।

तला-भुना खायेंगे तो आयेगा आलस

उन्होंने सलाह दी कि छात्रों को होली में तली-भूनी चीजे नहीं खाना चाहिये क्योंकि इससे आलस आता है तथा पेट खराब होने का डर बना रहता है। अभिभावकों को अपने बच्चों पर ज्यादा दबाव नहीं बनाने चाहिए क्यो कि इससे बच्चे तनाव में आ सकते है जिससे उन्हे परीक्षा के दौरान अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। छात्रों को परीक्षा से डरने की जरूरत नहीं है पूरी मेहनत और लगन के साथ खेल भावना से परीक्षा देना चाहिए।
उन्होंने कहा कि होम्योपैथी की दवाइयां आप के दिमाग से परीक्षा का भय निकाल देगी तथा परीक्षा के सफर में पूरा साथ निभाकर आप को सफलता दिलाने मेें आप का सहयोग करेगी परन्तु ध्यान रहे कि होम्योपैथिक दवाइयां केवल प्रशिक्षित चिकित्सकों की सलाह से ही लेनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

two + 8 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.