एनएसएस के युवा अब कहलायेंगे कम्‍युनिटी हेल्‍थ एम्‍बेसडर

-आपातकालीन घटनाओं में पीडि़तों की सहायता करेंगे कम्युनिटी हेल्थ एंबेसडर्स

-केजीएमयू में आयो‍जित कार्यक्रम में राज्‍यमंत्री नीलिमा कटियार ने की घोषणा

-देश का पहला राज्‍य है उत्‍तर प्रदेश, जहां लागू हो रही है यह खास योजना

-डिग्री कॉलेजों से जुड़े एनएसएस के युवाओं को किया जा रहा प्रशिक्षित

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश सरकार की राज्‍यमंत्री नीलिमा कटियार ने कहा है कि उत्‍तर प्रदेश देश का पहला ऐेसा राज्‍य होने जा रहा है जहां किसी भी आपदा, महामारी, दुर्घटना, आपातस्थिति में पीडि़तों की सहायता के लिए स्‍वयंसेवक उपलब्‍ध रहेंगे। इसके लिए राष्‍ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के युवाओं को स्‍वास्‍थ्‍य सम्‍बन्‍धी प्रशिक्षण देकर तैयार किया जा रहा है। प्रशिक्षण देने के लिए विशेषज्ञों की टीम तैयार की गयी है। एनएसएस के ये युवा अब कम्युनिटी हेल्थ एंबेसडर्स कहलायेंगे।

किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) में आज 9 फरवरी को आस (अवेयर, अलर्ट, एक्‍शन, सरवाइवल) के तहत एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। उत्‍तर प्रदेश राष्ट्रीय सेवा योजना (एन एस एस) के वॉलिंटियर्स को लेकर आयोजित कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश सरकार की राज्यमंत्री नीलिमा कटियार ने कहा है कि जल्दी ही उत्तर प्रदेश ऐसा पहला राज्य होने जा रहा है जो प्रदेश में स्वास्थ्य कर्मियों के संख्या बल को बढ़ाएगा इसके लिए डिग्री कॉलेजों में एनएसएस के युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

केजीएमयू के सेल्बी हॉल में हुए इस कार्यक्रम का आयोजन बलरामपुर अस्पताल, लखनऊ केजीएमयू के डिपार्टमेंट ऑफ कम्युनिटी मेडिसिन, यूरोलॉजी विभाग, एंडोक्राइन सर्जरी विभाग, दंत विज्ञान संकाय, अटल बिहारी वाजपेयी मेडिकल यूनिवर्सिटी, डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान, लखनऊ विश्वविद्यालय की एनएसएस इकाई, लविवि का योगा एंड नेचुरोपैथी विभाग, इग्नू रीजनल सेंटर लखनऊ और एसोसिएशन ऑफ रिसर्च के संयुक्त संयोजन में आयोजित किया गया।

कार्यक्रम में लोहिया संस्थान के निदेशक प्रोफ़ेसर ए के सिंह ने कार्यक्रम के आयोजन की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम का आयोजन विभिन्न शीर्ष संस्थानों द्वारा एक मंच पर आकर करना प्रशंसनीय है। लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो आलोक कुमार राय ने कहा कि लखनऊ विश्वविद्यालय इस कार्यक्रम को पूरा सहयोग करेगा। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि एडीशनल चीफ सेक्रेट्री उच्च शिक्षा विभाग मोनिका गर्ग ने कार्यक्रम में वर्चुअल हिस्सा लिया। विशेष अतिथि बलरामपुर अस्पताल के निदेशक डॉ राजीव लोचन ने कहा कि सड़क पर सुरक्षा के लिए युवाओं की भागीदारी बहुत महत्वपूर्ण है। एक अन्य अतिथि डॉ अशोक कुमार श्रोती ने कहा कि‍ यह ऐतिहासिक होगा जब एनएसएस के युवा कम्‍युनिटी हेल्‍थ एंबेसडर्स बनकर देश और राज्य की सेवा करेंगे। शासन में विशेष कार्याधिकारी डॉ अंशुमाली शर्मा ने भी एनएसएस के युवाओं को प्रशिक्षण देकर इस सेवा लायक बनाने पर हर्ष जताया। केजीएमयू के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग के विभागाध्‍यक्ष प्रो जमाल मसूद ने कहा कि एनएसएस के युवाओं का प्रशिक्षण बहुत महत्वपूर्ण है। उन्‍होंने कार्यक्रम के महत्व के बारे में विस्तार से जानकारी दें।

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत एन एस एस के युवाओं को प्रशिक्षण देने वाले विशेषज्ञों, इंस्ट्रक्टर्स और ट्रेनर्स में डॉ प्रेमलता, प्रेम राज सिंह डॉ रामनरेश यादव, डॉ सूर्यकांत, विजय कुमार सिंह, डॉ सतीश कुमार, अमित रंजन राय, सुरेश चंद्र रावत, रुचिता चौधरी, डॉ कीर्ति श्रीवास्तव, डॉ तूलिका चंद्रा, डॉ अर्चना शुक्ला, डॉ हीमा बिंदु नायक, शालिनी श्रीवास्तव, डॉ अमरजीत यादव, डॉ पुष्पलता संखवार, डॉ एसएन संखवार, डॉ आनंद कुमार मिश्रा, प्रो शालिनी गुप्ता, डॉ तेजवीर सिंह, डॉ कीर्ति विक्रम सिंह और दंत विज्ञान के संकाय हैं।

कार्यक्रम के आयोजन सचिव डॉ राजीव मिश्रा ने कार्यक्रम और होने वाले प्रशिक्षण के महत्‍व के बारे में बताते हुए विस्तार से जानकारी दी। इग्नू के डॉ कीर्ति विक्रम सिंह ने इग्नू रीजनल सेंटर की ओर से कार्यक्रम को पूरे सहयोग का आश्वासन दिया। इस मौके पर पीओसीटी के अमित ने इस प्रोजेक्ट में वित्तीय सहायता देने का आश्वासन दिया।