लखनऊ को मेडिकल हब बनाने का इंतजाम किया योगी सरकार ने

प्राथमिक चिकित्‍सा से लेकर सुपर स्‍पेशियलिटी मेडिकल सेवायें होंगी मजबूत
-2020-21 के लिए अब तक का सबसे बड़ा 5,12,860.72 करोड़ रुपये का बजट पेश

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने मंगलवार को वर्ष 2020-21 के लिए अपना चौथा बजट 5,12,860.72 करोड़ रुपये का पेश किया। वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने उत्‍तर प्रदेश के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा बजट पेश किया। योगी सरकार ने अपने चौथे बजट में तलाकशुदा महिलाओं से लेकर किसानों तक को साधने कोशिश की है। बजट में सेफ सिटी लखनऊ योजना के लिए 97 करोड़, तेजाब, बलात्कार से पीड़ितों को आर्थिक सहायता के लिए 28 करोड़, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए 1200 करोड़ रुपये दिए जाएंगे। साथ ही तलाकशुदा महिलाओं को 500 रुपये महीने पेंशन मिलेगी।

चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र पर योगी सरकार ने खासी तवज्‍जो देते हुए उन सुविधाओं को यहां देने की कोशिश की है जिनके लिए मरीज दिल्‍ली की दौड़ लगाते हैं। इसके तहत लखनऊ को मेडिकल हब के रूप में विकसित करने के लिए बजट में विशेष ध्‍यान दिया गया है। लखनऊ शहर में बेसिक ट्रीटमेंट से लेकर सुपर स्पेशियलिटी सेवाओं को मजबूत किया जायेगा।

शहर में संजय गांधी पीजीआई सहित अन्‍य संस्‍थानों में विभिन्न राज्यों के अलावा अफगानिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश से मरीज इलाज के लिए आते हैं। लिहाजा, मेडिकल टूरिज्म की उम्मीदों के बीच दिनोंदिन अस्पतालों का जाल बिछ रहा है। इसका उदाहरण हाल ही में कॉरपोरेट सेक्टर के बड़े अस्पतालों का यहां आना है।  सरकार ने भी इसी के मद्देनजर बजट में स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र को मजबूत करने की मंशा दिखायी है। राजधानी में एलोपैथ, आयुर्वेद, होम्योपैथ और यूनानी चिकित्सा का बेहतर इलाज उपलब्ध होगा। लोहिया संस्‍थान, केजीएमयू, संजय गांधी पीजीआई, कैंसर संस्थान में ऑर्गन बेस्ड ट्रीटमेंट का विस्तार होगा। वहीं आयुष में रिसर्च सेंटर खोलकर गुणवत्तापरक इलाज को बढ़ावा दिया जाएगा।

पांच नये ट्रॉमा सेंटर खोलने की योजना

सिविल अस्पताल में 12.5 करोड़ रुपये से ट्रॉमा सेंटर बनेगा। वहीं वार्ड व ओपीडी विस्तार के लिए 50 लाख मिले। यह सूचना विभाग के भवन में बनने का प्लान है।  इसके अलावा साढ़ामऊ अस्पताल में 100 बेड का ट्रॉमा सेंटर, आरएलबी में 200 बेड ट्रॉमा एंड बर्न यूनिट प्रस्तावित है, जबकि जानकीपुरम विस्तार में 20 बेड का ट्रॉमा सेंटर का काम जल्द पूरा होगा। सीएमओ को इनके लिए धन जारी होने की उम्मीद है। वहीं केजीएमयू में 200 बेड का ट्रॉमा-टू नए प्लान से धन जुटाएगा।

कई अस्पतालों को किया जायेगा अपग्रेड

लोकबंधु अस्पताल में 200 बेड बढ़ेंगे। वहीं बीआरडी में 166 बेडों का विस्तार होगा। इसके अलावा लोहिया संस्थान के न्यू ब्लॉक में 200 बेड बढ़ेंगे। एसजीपीजीआई में 824 बेड बढ़ेंगे। आयुर्वेद मेडिकल कॉलेज को नया हॉस्पिटल ब्लॉक मिलेगा। लोहिया संस्थान का शहीद पथ पर पांच सौ बेड का सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल बनेगा। वहीं कैंसर संस्थान 500 बेड का होगा।

जिन संस्‍थानों में बढ़ेंगे बेड उनमें लोहिया संस्थान न्यू हॉस्पिटल में 500, लोहिया संस्थान न्यू ब्लॉक-200, पीजीआई-824, केजीएमयू-ट्रॉमा-टू-200, क्वीनमेरी-100, लारी कार्डियोलॉजी-100, चिनहट अस्पताल-50 बेड, अलीगंज अस्पताल-100, घैला अस्पताल-100, साढ़ामऊ ट्रॉमा सेंटर-100, आरएलबी ट्रॉमा एंड बर्न यूनिट-200, लोकबंधु अस्पताल-200, बीआरडी-166, आयुष अस्पताल-50 तथा कैंसर संस्थान में 500 बेड बढ़ेंगे। निर्माणाधीन प्रोजेक्टों में केजीएमयू का बलरामपुर जनपद में सेटेलाइट कैंपस व अटल यूनीवर्सिटी के काम में भी तेजी आयेगी।