Monday , August 22 2022

चेतना बनकर बीमारियों से निपटने में सहायता करता है योग : कुलपति

-मानव और प्रकृति के बीच सामंजस्‍य बनाता है योग : डॉ विनोद जैन

-अंतराष्ट्रीय योग दिवस पर केजीएमयू में 10% ने संस्‍थान में 90 % ने घर में किया योग

            ले.ज. डॉ बिपिन पुरी

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति ले.ज. डॉ बिपिन पुरी ने योग का महत्‍व बताते हुए कहा कि योग हमारी बदलती जीवन शैली में चेतना बनकर हमें जल वायु परिवर्तन व कई बीमारियों से भी निपटने में सहायता करता है। उन्होंने कहा कि इस कोरोना महामारी के समय योग के जरिये इम्युनिटी बढ़ाने के साथ ही शरीर को निरोग एवं मन को शांत रखा जा सकता है।

कुलपति ने यह विचार आज 21 जून को केजीएमयू के पैरामेडिकल साइंसेस संकाय द्वारा आयोजित किये गये सातवें “अंतराष्ट्रीय योग दिवस” के मौके पर मुख्‍य अतिथि के रूप में किये गये अपने सम्‍बोधन में व्‍यक्‍त किये। कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए इस हाइब्रिड योग कार्यक्रम में पैरामेडिकल साइंसेस के 30-35 छात्रों  एवं फैकल्टी स्टाफ ने कलाम सेंटर हाल में योग किया एवं 300 से अधिक लोगों ने घर रहकर वर्चुअली कार्यक्रम में भाग लिया। इस वर्ष योग दिवस की थीम ”स्वास्थ्य कल्याण के लिए योग” रही।

कुलपति डॉ  बिपिन पुरी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर 21 जून 2015 को  अंतराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत हुई, यह दिवस भारत के साथ-साथ लगभग विश्व के 170 देशों में मनाया जा रहा है।

कार्यक्रम में उपस्थित डॉ विनोद जैन, डीन, पैरा मेडिकल साइंसेस ने योग का महत्व बताते हुए कहा कि‍ इसकी उत्पत्ति भारत में 5000 वर्ष पूर्व हुई थी। उन्होंने बताया आज के इस महामारी के दौर में योग को दैनिक रूप से अपनी जीवन शैली में अपनाने की आवश्यकता है। कोविड के इस नकारात्मक समय में योग क्रिया ही हमें शारीरिक व मानसिक रूप से सकारात्मक एवं स्वस्थ रख सकती है।

डॉ जैन ने बताया इस दिवस का उद्देश्य योग के लाभों को बताकर इसके प्रति, स्वस्थ जीवन शैली के लिए, जागरूकता को बढ़ाना है। उन्होंने कहा योग हमें कोविड संक्रमण, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, चिंता, अवसाद जैसी अन्य भयंकर बीमारियों से भी बचाता है तथा योग मानव और प्रकृति के बीच सामंजस्य बनाता है। उन्होंने यह भी कहा कि संयुक्त राष्ट्र और विश्व स्वास्‍थ्‍य संघटन (डब्ल्यू0एच0ओ0) भी स्वास्‍थ्‍य के सभी पहलुओं में सुधार लाने के लिए नियमित योग की सलाह देते हैं।

इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति प्रो0 विनीत शर्मा,  यूरोलॉजी के प्रो0 दिवाकर दलेला, अधीक्षक, कोविड हॉस्पिटल प्रो जे.डी.रावत एवं पैरा मेडिकल साइंसेस के छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन सोनिया शुक्ला, एक्टिविटी सेल,  पैरामेडिकल साइंसेस द्वारा किया गया।