Wednesday , November 30 2022

बैठक के कार्यवृत्‍त के अनुसार कर्मचारियों का समायोजन क्‍यों नहीं कर रहे ?

लोहिया अस्‍पताल के कर्मियों का दो घंटे कार्य बहिष्‍कार जारी

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। डॉ राम मनोहर लोहिया संयुक्‍त चिकित्‍सालय के आंदोलनरत कर्मियों का दो घंटे कार्य बहिष्‍कार आज मंगलवार को भी जारी रहा। लोहिया कर्मचारी अस्तित्‍व बचाओ मोर्चा के बैनर तले आंदोलतरत कर्मचारियों का कहना है कि जब 15.4.19 की बैठक के कार्यवृत्‍त में लोहिया संस्‍थान में विलय की स्थिति में अस्‍पताल के कर्मचारियों के लिए संस्‍थान में निःसंवर्गीय (एक्‍स कैडर) पद सृजित करने के प्रस्‍ताव का जिक्र है तो उसके अनुसार क्‍यों नहीं किया जा रहा है।

मोर्चा के अध्‍यक्ष देश दीपक त्रिपाठी ने आरोप लगाया है कि सभी बैठकों में उपस्थित रहने के बाद भी अस्‍पताल के निदेशक द्वारा अधिकारियों को गुमराह किया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि जब अस्‍पताल का विलय हो रहा है तो कर्मचारियों को प्रतिनियुक्ति पर लेने की बात नहीं होनी चाहिये, कर्मचारियों को भी संस्‍थान में समायोजित किया जाना चाहिये।

उन्‍होंने कहा है कि चिकित्‍सा शिक्षा विभाग द्वारा 15.4.19 की बैठक का जारी कार्यवृत्‍त के पैरा 3 में उल्‍लेख है कि ‘…यह भी मत व्‍यक्‍त किया गया कि उपर्युक्‍त सम्‍बद्धीकरण से इतर एक विकल्‍प यह भी हो सकता है कि उक्‍त प्रस्‍तावित सम्‍बद्धीकरण से जितने कार्मिक आच्‍छादित हैं उनके लिए संस्‍थान में निःसंवर्गीय (एक्‍स कैडर) पद सृजित कर दिया जाये।…’ इससे कर्मचा‍री भी सहम‍त थे।

उन्‍होंने बताया कि मोर्चा के समर्थन में राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद के साथ ही साथ यूपी मेडिकल एंड पब्लिक हेल्‍थ मिनिस्‍टीरियल एसोसिएशन एवं उत्‍तर प्रदेश बेसिक हैल्‍थ वर्कर (महिला/पुरुष) ने उसके समस्‍त घटकों के साथ समर्थन दिया है। उन्‍होंने कहा कि मांगें न माने जाने की स्थिति में आगामी 7 अक्‍टूबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल की जायेगी।