वर्षों से काम जब नियमित कर्मचारी वाला, तो पेंशन भी मिले आउटसोर्सिंग कर्मियों को

-इप्‍सेफ ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर की पुरानी पेंशन भी देने की मांग

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। इंडियन पब्लिक सर्विस इंप्लाइज फेडरेशन (इप्सेफ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष वी पी मिश्र एवं महामंत्री प्रेमचंद्र ने प्रधानमंत्री को पत्र भेजकर मांग की है कि आउटसोर्सिंग संविदा पर कार्य कर रहे कर्मचारियों को भी पेंशन एवं अन्य सुविधाएं दी जाएं। आउटसोर्सिंग संविदा कर्मचारी लंबे समय से वही कार्य कर रहे हैं जो नियमित कर्मचारी का काम करते हैं इसलिए उनके जीवन को खुशहाल रखने के लिए रिक्त पदों पर भर्ती में वरीयता दी जाए। उन्होंने यह भी मांग की है कि वर्तमान हालात को देखते हुए देश भर के सभी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन बहाल की जाये।

शशि कुमार मिश्रा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं सचिव अतुल मिश्रा ने कहा कि वर्तमान हालात में सेवानिवृत्त कर्मचारियों को यदि पुरानी पेंशन नहीं मिलेगी तो उन्हें जीवन बसर करना कठिन हो जाएगा। उनके बच्चे पढ़ लिख कर बाहर नौकरी करने चले जाते हैं। पति-पत्नी अकेले रह जाते हैं, उन्हें पेंशन का ही सहारा होता था इसलिए प्रधानमंत्री से आग्रह है कि मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए पुरानी पेंशन का लाभ देने का निर्णय करें। इस निर्णय से लाखों लाख परिवार उन्हें दुआएं देंगे। अप्रैल 2004 के बाद के नियुक्त होने वाले कर्मचारी सरकार के पुराने निर्णय से अधिक दुखी है और आक्रोशित भी हैं।

राष्ट्रीय सचिव अतुल मिश्रा ने यह भी बताया कि 31 जनवरी को इप्सेफ की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आहूत की जा रही है, जिसमें यदि सरकार कर्मचारियों की समस्याओं पर सकारात्मक निर्णय नहीं करती है तो देशभर के कर्मचारियों की भावनाओं को देखते हुए बड़े आंदोलन की घोषणा करने का निर्णय लिया जा सकता है।