पानी भरने वाले बर्तनों को भी सप्‍ताह में एक बार सुखायें जरूर

मलेरिया वार्ड कार्यालय का उद्घाटन, ढाई लाख जनसंख्‍या को मिलेगी सरकारी देखभाल की मदद

संचारी रोगों से निपटने के लिए सीएमओ ने तैयारियां की तेज, कार्यकर्ताओं को भी बांटीं किट

लखनऊ। आज दिनांक 17 अप्रैल को नगर मलेरिया वार्ड कार्यालय का उद्घाटन नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र डूडोली के भवन में मुख्य चिकित्सा अधिकारी कृष्ण देव मौर्य, विजय प्रकाश, सुरेश कुमार तथा ओम प्रकाश को पर्सनल प्रोटेक्शन किट भी बांटे। इन किट्स में कार्यकर्ताओं की सुरक्षा के लिए जूते, चश्मा, ग्लब्‍ज तथा एक एप्रेन है। आज ही मलेरिया इंस्पेक्टर प्रशांत वर्मा को हैंड कंप्रेसर पंप भी प्रदान किया जिससे मच्छरों को मारने के लिए फॉगिंग करने में मदद मिलेगी।  आज ही एक कार्यकर्ता को इंसेक्ट कलेक्शन किट भी प्रदान की गई।

 

उद्घाटन के अवसर पर उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ नरेंद्र अग्रवाल ने कहा कि फैजुल्लागंज एवं खदरा का क्षेत्र संचारी रोगों की दृष्टि से बहुत संवेदनशील है। इस कार्यालय के यहां खुलने से मलेरिया, डेंगू तथा चिकनगुनिया जैसे संक्रामक रोगों पर नियंत्रण करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र की लगभग ढाई लाख की जनसंख्या को संचारी रोग नियंत्रण के लिए क्षेत्र में ही मदद प्रदान की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि संचारी रोगों के नियंत्रण में बचाव की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है।

 

वेक्टर जनित रोगों से बचने के लिए कूलर एवं अन्य बर्तन, जिनमें पानी का संचयन किया जाता है, आदि को सप्ताह में एक बार सुखाकर उन्हें प्रयोग में लाएं। घर की छतों  पर बेकार पड़े बर्तनों, गमलों के नीचे, एसी से निकलने वाले पानी, पक्षियों के लिए रखे गए पानी के बर्तनों आदि को सप्ताह में एक बार सुखाकर ही दोबारा उपयोग में लाएं। उन्होंने बताया कि एडीज मच्छर के काटने से डेंगू का रोग फैलता है। यह एक छोटा काले रंग का मच्छर होता है जिस पर सफेद धारियां होती हैं। अधिकतर दिन के समय काटता है और बार-बार काटता है। घरों में अधिकतर अंधेरे वाले कोनों, लटके हुए कपड़ों या छतरी आदि तथा फर्नीचर के नीचे पाया जाता है। उन्होंने कहा कि बचाव ही सबसे उत्तम उपाय है। मच्छरों को पनपने न दें।

 

इस अवसर पर उप चिकित्सा अधिकारी तथा नोडल अधिकारी वेक्टर बॉर्न डिजीज डा के पी त्रिपाठी ने कहा कि डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया से डरने की आवश्यकता नहीं है। थोड़ी सी सावधानी रखने पर बचाव कर सकते हैं। डेंगू फैलाने वाला मच्छर खड़े हुए साफ पानी में पनपता है। यदि आपके घर में या आसपास पानी जमा है जैसे कि कूलर, पानी की टंकी, पक्षियों के पीने के पानी के बर्तन, फ्रिज की ट्रे, फूलदान नारियल का खोल, टूटे बर्तन में टायर इत्यादि वहां से पानी साफ कर दें। पानी से भरे हुए बर्तनों टंकी आदि को ढंककर रखें।

 

उन्होंने बताया कि डेंगू जांच की निशुल्क सुविधा लखनऊ में चार स्थानों माइक्रोबायोलॉजी लैब एसजीपीजीआई, केजीएमयू, रीजनल लैब स्वास्थ्य भवन, डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान गोमतीनगर लखनऊ में उपलब्ध है। डेंगू रोगी के इलाज की व्यवस्था समस्त राजकीय स्वास्थ्य केंद्र एवं चिकित्सालय में निशुल्क उपलब्ध है। बुखार आने पर अपने निकट के राजकीय स्वास्थ्य केंद्र अथवा चिकित्सालय में संपर्क करें। कार्यक्रम में अपर मुख्य अधिकारी डॉक्टर सईद अहमद डॉक्टर आरवी सिंह, डॉ. अनूप श्रीवास्तव, जिला मलेरिया अधिकारी डीएन शुक्ला, डॉ. अनिल गुप्ता, डा.मयंक चौधरी, शैलेन्द्र गुप्ता भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डॉ एसके सक्सेना ने किया।