दिल्ली पब्लिक स्कूल के अवैध गेट बनाने का खामियाजा भुगत रहे बच्चे और अभिभावक

शिकायत पर सील हुआ गेट, मुख्यद्वार पर भीड़ का प्रेशर बढ़ा, बसों को स्कूल से दूर खड़ा करने से बच्चे परेशान

लखनऊ. दिल्ली पब्लिक स्कूल की इंदिरा नगर शाखा में पढ़ने वाले बच्चों और उनके अभिभावकों को आजकल काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है. इसकी वजह है अवैध रूप से बनाए गए स्कूल के पिछले गेट को सील कर दिया गया है. नतीजा यह है कि एक ही गेट पर भीड़ का दबाव होने के कारण काफी दिक्कत हो रही है. फिलहाल हाई कोर्ट में 7 मई को इस मसले पर सुनवाई होनी है.

 

7 को है हाई कोर्ट में पेशी

इस बारे में स्कूल के ऑफिस मैनेजर मनीष सोनी ने बताया कि 7 मई को हाई कोर्ट में इस सम्बन्ध में सुनवाई होनी है.

मनीष  सोनी ने स्वीकार किया कि स्कूल के नक़्शे में पीछे वाला गेट का प्रावधान नहीं था. आपको बता दें कि दिल्ली पब्लिक स्कूल इंदिरा नगर के सेक्टर 19 में 1999 में स्थापित हुआ था. बताया जाता है उस समय चूँकि इतनी आबादी भी नहीं थी न ही लोगों ने इस पर ध्यान दिया कि यह गेट अवैध रूप से बन रहा है. बताया जाता है कि पीछे वाले गेट से ही स्कूल की बसों का भी निकलना रहता है, साथ ही अभिभावकों के वाहन आदि से कॉलोनी में रहने वालों को जब ज्यादा तकलीफ हुई तो शिकायत हुई, चूँकि गेट अवैध था तो सील कर दिया गया. फिलहाल स्थिति यह है कि जो मुख्य गेट है उससे थोड़ी दूर पर बसों को खड़ा किया जाता है, तथा वहां तक बच्चे गर्मी और चिलचिलाती धूप में जाते हैं तब उन्हें बस में चढ़ाया और उतारा जाता है, जबकि पहले स्कूल परिसर के अन्दर ही बस में उतारा और चढ़ाया जाता था. इसी प्रकार दूसरे अभिभावक भी जो बच्चों को स्वयं ही छोड़ने और लेने आते हैं उन्हें भी एक ही गेट होने की वजह से भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. फिलहाल सभी की निगाह कल हाई कोर्ट में होने वाली सुनवाई पर टिकी हुई हैं.