थायराइड और थाइमस ग्रंथि के टयूमर को जटिल सर्जरी से निकाला

-संजय गांधी पीजीआई के प्रो ज्ञान चंद्र ने की एक और जटिल सर्जरी

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान के एंडोक्राइन सर्जरी विभाग के प्रोफेसर ज्ञानचंद ने एक और जटिल सर्जरी की है, इस बार उन्‍होंने थायराइड और थाइमस ग्रंथि के टयूमर को शल्य क्रिया द्वारा निकालने में सफलता प्राप्त की है। ज्ञात हो हाल ही में प्रो ज्ञान चंद्र ने पैराथायराइड ग्रंथि के ट्यूमर की सर्जरी को बिना चीरफाड़ किये दूरबीन विधि से करते हुए मुंह के रास्‍ते ट्यूमर निकालने में सफलता प्राप्‍त की थी।

थायराइड और थाइमस ग्रंथि के टयूमर की शल्य क्रिया के बारे में मिली जानकारी के अनुसार अंबेडकर नगर जिले के निवासी एक गरीब श्रमिक ने थायरायड ग्रंथि के इलाज के लिए जब प्रारंभिक जांचें करायीं तो पता चला कि उसकी छाती के अंदर हृदय के ऊपर एक बहुत बड़ा टयूमर है, जिसके यथोचित उपचार के लिए उसे पी जी आई संदर्भित किया गया।

पी जी आई  के एंडोक्राइन सर्जरी विभाग में प्रोफेसर ज्ञानचंद ने उचित प्रकार से जांच के पश्चात यह बताया कि उसके गले में थायराइड ग्रंथि का तो टयूमर है ही, साथ ही उसकी छाती के अंदर एक बहुत बड़ा थाइमस ग्रंथि का भी टयूमर है जो उसके हृदय पर दबाव बना रहा है। मरीज को आश्वासन दिया गया कि उसके दोनों टयूमर को एक साथ ही निकाल दिया जाएगा। यह चिकित्सा जगत में एक जटिल शल्य क्रिया थी, किंतु डॉ ज्ञानचंद ने अपने आत्मविश्वास और तकनीकी कौशल के बल पर इस जटिल ऑपरेशन को भी करने में सफलता प्राप्त की।

आपको बता दें कि 40 वर्षीय संजय कुमार यादव एक गरीब मजदूर है, जो कुछ सरकारी सहायता और स्वयं के सीमित साधन से इस आशा के साथ यहाँ आया था कि कम से कम खर्च में उसे उपचार प्राप्त हो सके। रोगी स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर रहा है और उसको एक-दो दिन में अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी। इस जटिल ऑपरेशन में डॉ विश्वक और डॉक्टर शालिक तथा निश्चेतना विभाग से डॉ प्रतीक और डॉ केशव ने भी अपना सहयोग दिया।