रोग का नहीं, बल्कि रोगी के इलाज का सिद्धांत डॉ हैनिमैन ने प्रतिपादित किया

-होम्‍योपैथी के जनक डॉ हैनिमैन की पुण्‍यतिथि पर प्रतिमा पर श्रद्धांजलि दी, आयोजित किया गया वेबिनार

लखनऊ। होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति के आविष्कारक डॉ हैनिमैन की पुण्यतिथि उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सादगी पूर्वक मनायी गई। इस अवसर पर गोमती नगर के हैनिमैन चौराहे पर स्थापित डॉ हैनिमैन की प्रतिमा पर उत्तर प्रदेश होम्योपैथिक मेडिसिन बोर्ड के चेयरमैन डॉ बी एन सिंह, केंद्रीय होम्योपैथी परिषद के पूर्व वरिष्ठ सदस्य डॉ अनुरुद्ध वर्मा, प्रोफेसर रेनु महेन्द्र, डॉ पंकज श्रीवास्तव,  डॉ दीपक सिंह, डॉ दुर्गेश चतुर्वेदी, अभिषेक वर्मा सहित अनेक चिंकित्सकों ने माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की।

कोविड-19  के संक्रमण के कारण कोई सार्वजनिक कार्यक्रम न आयोजित कर इस अवसर पर होम्योपैथिक साइंस कांग्रेस सोसाइटी एवं भार्गव फाइटो लैब द्वारा चिकित्सा विज्ञान में डॉ हैनिमैन का योगदान विषय पर नेशनल वेबिनार का आयोजन किया गया, जिसके मुख्य अतिथि केंद्रीय होम्योपैथी परिषद के पूर्व अध्यक्ष डॉ राम जी सिंह थे तथा अध्यक्षता उत्तर प्रदेश होम्योपैथिक मेडिसिन बोर्ड के अध्यक्ष डॉ बी एन सिंह ने की।

डॉ राम जी सिंह ने कहा कि डॉ हैनिमैन ने होम्योपैथी का अविष्कार कर चिकित्सा विज्ञान को नई दिशा प्रदान की। बेविनार के संयोजक केंद्रीय होम्योपैथी परिषद के पूर्व सदस्य डॉ अनुरुद्ध वर्मा ने कहा कि एलोपैथी शब्द सबसे पहले डॉ हैनिमैन ने ही दिया था तथा समग्र स्वास्थ्य की संकल्पना भी उन्होंने ने ही की है। दवाईओं के स्वस्थ मनुष्य पर परीक्षण की शुरुआत भी डॉ हैनिमैन ने ही की।

बंगलोर के प्रोफेसर बी डी पटेल ने कहा कि उन्होंने औषधि की अल्प मात्रा के प्रयोग की व्यवस्था दी। हैदराबाद के प्रोफेसर एस प्रवीण कुमार ने कहा कि डॉ हैनिमैन ने रोग का नहीं, बल्कि रोगी के उपचार का सिद्धांत प्रतिपादित किया। पॉन्डिचेरी के डॉ उत्तरेश्वर पचगवाकर ने कहा कि होम्योपैथी उपचार का प्राकृतिक और सौम्य तरीका है। कोलकाता के प्रोफेसर सुभाष सिंह ने कहा कि होम्योपैथी में 80 प्रतिशत स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान उपलब्ध है।

पंजाब के डॉ तनवीर हुसैन कहा कि डॉ हैनिमैन ने उपचार का प्राकृतिक तरीका बताया। भोपाल के प्रोफेसर नीशान्त निम्बिसान ने बताया कि हैनिमैन ने रोगी को क्योर करने की बात कही। दिल्ली के डॉ दीपक शर्मा ने कहा कि डॉ  हैनिमैन का योगदान अतुलनीय है। दिल्ली के डॉ राहुल सिंह ने कहा कि डॉ हैनिमैन ने परम्परागत चिकित्सा का विकल्प प्रस्तुत किया।  लखनऊ के डॉ नीशान्त श्रीवास्तव ने कहा कि डॉ हैनिमैन ने दवाईओं का परीक्षण अपने ऊपर किया। भार्गव फाइटो लैब के प्रबंध निदेशक आर एस भार्गव ने लैब कि गुणवत्ता के बारे में जानकारी दी। वेबिनार को डॉ रजनीश, डॉ इश्मीत कौर, डॉ याशिका अरोरा आदि ने संबोधित किया।