आउटसोर्सिंग वाले पुराने कर्मचारियों को ही नयी व्‍यवस्‍था में रखा जायेगा

आउटसोर्सिंग संविदा कर्मचारियों का धरना-प्रदर्शन रंग लाया, शासन से आस बंधी

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश शासन ने आउटसोर्सिंग संविदा कर्मचारी संघ को आश्वासन दिया है कि पूर्व में कार्यरत कर्मचारी ही नई व्यवस्था में रखे जाएंगे, अभी एजेंसी का चयन होने तक सभी पैरामेडिकल कर्मचारियों को सेवा विस्तार दिया जाएगा जिसका पत्र 30 नवंबर तक जारी हो जाएगा।

यह आश्‍वासन चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की सचिव वी हेकाली झिमोमी ने संघ के प्रतिनिधिमंडल से वार्ता में दिया। बुधवार को संयुक्त स्वास्थ्य आउटसोर्सिंग संविदा कर्मचारी संघ ने उत्‍तर प्रदेश सरकार की आउटसोर्सिंग नीतियों का विरोध करते हुए यहां इको गार्डन में आयोजित एक दिवसीय धरना प्रदर्शन में मुख्यमंत्री को संबोधित पांच सूत्री मांग पत्र के माध्‍यम से निष्‍कासित कर्मचारियों की सेवा बहाली की मांग उठायी। अध्‍यक्ष रितेश मल्‍ल और महामंत्री सच्चितानंद ने बताया कि प्रदेश से हजारों कर्मचारी इको गार्डन लखनऊ में एकत्रित हुए। सभी कर्मचारियों ने शासन तथा सरकार की आउटसोर्सिंग नीतियों का विरोध जताते हुए शासन के प्रति विरोध एवं आक्रोश व्यक्त किया। सभी कर्मचारियों ने मांग की कि  निष्कासित सभी कर्मचारियों की सेवा बहाली की जाए नॉन पैरामेडिकल के 504 कर्मचारियों के लिए विभाग द्वारा बजट जारी कराया जाए तथा पैरामेडिकल के पूर्व में कार्यरत कर्मचारियों को ही समायोजित किया जाए।

सभी मांगों को लेकर कर्मचारियों ने दिनभर विशाल धरना प्रदर्शन किया धरना प्रदर्शन के बाद शासन की ओर से वार्ता के लिए बुलाए जाने पर संविदा कर्मचारी संघ का प्रतिनिधिमंडल ने सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य वी हेकाली झि‍मोमी तथा एम डी एन एच एम जसजीत कौर से मुलाकात कर सकारात्मक वार्ता की। सचिव द्वारा संघ को आश्वस्त कराया गया कि पूर्व में कार्यरत कर्मचारी ही नई व्यवस्था में रखे जाएंगे अभी एजेंसी का चयन होने तक सभी पैरामेडिकल कर्मचारियों को सेवा विस्तार दिया जाएगा जिसका पत्र 30 नवंबर तक जारी हो जाएगा साथ ही कर्मचारियों के नए फर्म में समायोजन एवं नॉन पैरामेडिकल के 504 कर्मचारियों के बजट जारी किए जाने के क्रम में सोमवार 2 दिसंबर को कर्मचारी संगठन के पदाधिकारियों के साथ बैठक करके शासन स्तर से दिशा-निर्देश जारी कर दिया जायेगा।

संविदा कर्मचारी संघ के प्रतिनिधिमंडल में रितेश मल्ल, प्रदेश अध्यक्ष मनीष मिश्रा, प्रदेश मंत्री सच्चितानंद मिश्र, प्रदेश महामंत्री सनद सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष सत्यम दीक्षित, उपाध्यक्ष रामेंद्र श्रीवास्तव, प्रांतीय महामंत्री पंचायती राज सुखमिन्दर सिंह लक्की वार्ता में उपस्थित रहे। सचिव द्वारा दिए गए आश्वासन के पश्चात संविदा कर्मचारी संघ द्वारा आज का एक दिवसीय धरना प्रदर्शन समाप्त किया गया। 2 दिसंबर को संबंधित आदेश निर्गत होने के बाद ही संविदा कर्मचारी संघ आगे की रणनीति की घोषणा करेगा। संविदा कर्मचारी संघ विशेष मांग आउटसोर्सिंग नियमावली तथा मुख्यमंत्री द्वारा गठित कमेटी के मामले पर मुख्य सचिव के बाहर होने के कारण वार्ता नहीं हो सकी। संबंधित ज्ञापन मुख्यमंत्री को मजिस्ट्रेट द्वारा भेज दिया गया है।