चिकित्‍सा प्रतिष्‍ठानों के पंजीकरण के नवीनीकरण की समय सीमा 31 मार्च तक बढ़ेगी !

-शासन स्‍तर पर बन चुकी है सहमति, जल्द ही शासनादेश की संभावना

-आईएमए ने की थी महानिदेशक से समय सीमा बढ़ाने की मांग

धर्मेन्‍द्र सक्‍सेना

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश शासन द्वारा चिकित्सा प्रतिष्ठानों के पंजीकरण के नवीनीकरण कराने के लिए समय सीमा 31 मार्च 2021 तक बढ़ाए जाने की तैयारी है। यह समय सीमा फि‍लहाल 31 दिसम्‍बर को समाप्‍त हो रही है, लेकिन विश्‍वस्‍त सूत्रों के अनुसार व्‍यावहारिक कठिनाइयों के मद्देनजर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की मांग पर सकारात्‍मक फैसला लिये जाने पर सहमति बन चुकी है। ज्ञात हो बीते 31 मार्च, 2020 को समाप्त होने वाली यह समय सीमा पहले ही 31 दिसंबर 2020 तक बढ़ायी जा चुकी है।

ज्ञात हो नयी प्रक्रिया के तहत नर्सिंग होम, क्लीनिक, पैथोलॉजी, डायग्नोस्टिक सेंटर, अस्पताल जैसे चिकित्‍सा प्रतिष्ठानों के ऑनलाइन नवीनीकरण की व्‍यवस्‍था लागू की जा रही है। आईएमए ने महानिदेशक चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य डॉ डीएस नेगी से मिलकर यह तर्क रखा था कि चूंकि अभी तक पंजीकरण का प्रत्‍येक वर्ष अप्रैल माह में नवीनीकरण किया जाता रहा है, चूंकि कोविड-19 महामारी के चलते इसकी समय सीमा को बढ़ाकर 31 दिसम्‍बर, 2020 तक किया जा चुका है, चूंकि पहली बार ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा दी गयी है, इसलिए इसे सहजता से करने में प्रतिष्‍ठानों को कुछ समय लग सकता है, इसके साथ ही अगर 31 दिसम्‍बर, 2020 तक पंजीकरण का नवीनीकरण कराया जायेगा तो तीन माह बाद ही 31 मार्च, 2021 तक फि‍र करना होगा। ऐसे में अगर इस छूट की समय सीमा 31 दिसंबर 2020 से बढ़ाकर 31 मार्च 2021 कर दी जाए तो जहां इस नयी प्रक्रिया को समझने का मौका प्रतिष्‍ठानों को मिल जायेगा वहीं नवीनीकरण एक वर्ष यानी 31 मार्च 2022 तक के लिए हो जायेगा।

आपको बता दें पिछले दिनों आई एम ए लखनऊ के पूर्व अध्यक्ष डॉ पी के गुप्ता ने उत्‍तर प्रदेश मेडिकल काउंसिल का सदस्‍य चुने जाने के बाद महानिदेशक डॉ नेगी से शिष्‍टाचार भेंट की थी,  इस भेंट के समय उन्‍होंने पंजीकरण के नवीनीकरण की समय सीमा बढ़ाने की मांग की थी जिस पर डीजी ने विचार करने का आश्वासन दिया था। इसके बाद बीती 21 दिसंबर को भी आई एम ए नर्सिंग होम सेल के चेयरमैन डॉ अनूप अग्रवाल और आईएमए नर्सिंग होम सेल के एग्जीक्यूटिव सदस्य डॉ प्रांजल अग्रवाल ने भी आई एम ए लखनऊ की अध्यक्ष डॉ रमा श्रीवास्तव तथा सचिव डॉ जेडी रावत के साथ संयुक्त रुप से महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य को इस मसले पर पत्र लिखते हुए डीजी से मिलकर पंजीकरण के नवीनीकरण में छूट दिए जाने का आग्रह किया था। डॉ अनूप व डॉ प्रांजल को महानिदेशक डॉ नेगी द्वारा आश्वस्त किया गया था। सूत्र बताते हैं कि इसके बाद शासन स्तर पर इस पर विचार किया गया तथा सहमति बन चुकी है कि पंजीकरण के नवीनीकरण की तारीख 31 मार्च 2021 तक बढ़ा दी जाए। इस संबंध में जल्दी ही आदेश निकलने की आशा है।