केजीएमयू कर्मचारियों की मांगों पर टीचर्स एसोसिएशन का समर्थन, मंत्री को लिखा पत्र

-कहा, मरीज और चिकित्‍सा विवि के हित में हैं कर्मचारियों की मांगों को पूरा करना

-राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद ने भी अपर मुख्‍य सचिव को पत्र लिखकर की मांगें पूरी करने की अपील

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के गैर शैक्षणिक कर्मचारियों की लंबित मांगों को लेकर राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद तथा केजीएमयू टीचर्स एसोसिएशन की ओर से कर्मचारियों की मांगों को पूरा करने का अनुरोध किया गया है।

केजीएमयू की टीचर्स एसोसिएशन ने चिकित्सा शिक्षा विभाग के मंत्री सुरेश खन्ना को पत्र लिखा है। अध्यक्ष डॉ नीरा कोहली तथा सचिव डॉ संतोष कुमार की ओर से मंत्री को लिखे पत्र में कहा गया है कि कर्मचारियों की दो प्रमुख मांगें स्थाई कर्मचारियों के लिए शासन द्वारा 23 अगस्त 2016 को जारी शासनादेश के अनुसार संवर्गीय पुनर्गठन, पदोन्नति, एसीपी इत्यादि का लाभ प्रदान किया जाए तथा आउटसोर्सिंग पर तैनात कर्मचारियों को मुख्यमंत्री के आदेश से शासन द्वारा गठित कमेटी की रिपोर्ट के अनुसार लाभ प्रदान किया जाए। टीचर्स एसोसिएशन की ओर से कहा गया है कि कर्मचारियों की ये दोनों मांगें न्याय संगत हैं, जो मरीज एवं चिकित्सा विश्वविद्यालय के हित में पूर्ण करना अति आवश्यक है।

दूसरी ओर राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के महामंत्री अतुल मिश्रा की ओर से चिकित्सा शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव को लिखे पत्र में कहा गया है कि केजीएमयू में कार्यरत कर्मचारियों की कुछ जायज समस्याओं का समाधान विगत कई माह से लंबित होने के कारण कर्मचारियों को आर्थिक व मानसिक पीड़ा से गुजरना पड़ रहा है जिससे कर्मचारियों में आक्रोश व्याप्त होना स्वाभाविक है। कर्मचारियों की भावनाओं को दृष्टिगत रखते हुए मजबूरीवश कर्मचारियों द्वारा आंदोलन की घोषणा की गयी है। ज्ञात हो कर्मचारी परिषद की ओर से आगामी 28 जनवरी से चरणबद्ध तरीके से आंदोलन की घोषणा की गई है।

ज्ञात हो कि इससे पूर्व कुलपति द्वारा भी कर्मचारियों की मांगों तथा मांगें पूरी न होने के की सूरत में घोषित 28 जनवरी से प्रस्तावित आंदोलन के बारे में शासन को पत्र भेजा जा चुका है।