केजीएमयू में बन रहे मां शारदालय में मूर्तियों की प्राण प्रतिष्‍ठा शुरू

-सोमवार को होगा समापन, शारदालय में लगेगी मां सरस्‍वती व भगवान धनवन्‍तरि की प्रतिमा

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍व विद्यालय में तैयार मां शारदालय में देवी सरस्‍वती और भगवान धन्‍वन्‍तरि की प्रतिमा की प्राणप्रतिष्‍ठा का कार्यक्रम आज 26 जनवरी से शुरू हो गया है, दो दिन होने वाली प्राण प्रतिष्‍ठा की पूजा का समापन सोमवार को होगा।

प्राण प्रतिष्‍ठा के इस कार्यक्रम के अंतर्गत रविवार को केजीएमयू के गेट नम्‍बर 24 से कुलपति कार्यालय के सामने बने मां शारदालय तक कलश यात्रा निकाली गयी। इस कलश यात्रा में कुलपति डॉ एमएलबी भट्ट आज पूरी तरह से पूजा पाठ के लिबास में रहते हुए धोती कुर्ता पहने थे उनके साथ चल रहे सर्जरी के समय चाकू व अन्‍य उपकरण पकड़ने वाले ट्रॉमा सर्जरी के इंचार्ज पीली धोती-कुर्ता पहने डॉ संदीप तिवारी के हाथ में शंख और स्‍वर में मंत्रोच्‍चारण था। मंत्रोच्‍चार के बीच-बीच में डॉ तिवारी शंख बजाकर वातावरण को भक्तिमय बना रहे थे।

देेेेेेखें वीडियो

डॉ‍ तिवारी ने बताया कि आम तौर पर प्राण प्रतिष्‍ठा की पूजा तीन दिन चलती है लेकिन इसे घटाकर दो दिनों में सम्‍पूर्ण पूजा को किया जा रहा है। इसके तहत रविवार को मूर्तियों का अधिवास किया गया है। इन मूर्तियों को संगम से लाये गये जल, अन्‍न, फल, पुष्‍प में रखा गया। आज इस मौके पर कुलपति के साथ ही प्रति कुलपति डॉ जीपी सिंह, डॉ अभय नारायण तिवारी, डॉ नरसिंह वर्मा सहित अन्‍य फैकल्‍टी के साथ ही 2018 बैच के एमबीबीएस छात्र-छात्रायें मौजूद रहे।

मां शारदालय का लोकार्पण होगा 15 फरवरी को

शारदालय मंदिर के निर्माण के बारे में कुलपति ने बताया कि किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्‍वविद्यालय में अध्ययरत छात्रों द्वारा बसंत पंचमी के अवसर पर आयोजित की जाने वाली सरस्वती पूजन में सरस्वती प्रतिमा की स्थापना तथा इसके विसर्जन के दृष्टिगत होने वाली कठिनाइयों तथा पर्यावरण के संरक्षण के परिप्रेक्ष्य में चिकित्सा विश्‍वविद्यालय परिसर में कार्यपरिषद के अनुमोदनोपरान्त मां शारदालय का निर्माण कार्य किया गया है। मां शारदालय में मां सरस्वती के साथ ही भगवान धन्वन्तरि (स्वास्थ्य के ईष्ट) की प्रतिमा को स्थापित किया जाना है। मां शारदालय का निर्माण शीघ्र ही पूर्ण हो जायेगा। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि मां शारदालय का लोकार्पण कार्यक्रम 15 फरवरी को होना सुनिश्चित हुआ है। इस पावन अवसर पर डा0 वीरेन्द हेगड़े, धर्माधिकारी, श्री क्षेत्र धर्मस्थल, कर्नाटक द्वारा मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थिति होने की स्वीकृति प्रदान की गई है तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के उक्त कार्यक्रम की अध्यक्षता किये जाने की प्रबल सम्भावना है।