टीकाकरण का ग्राफ बढ़ाने के लिए खास रणनीति : डॉ अजय घई

-राज्‍य टीकाकरण अधिकारी ने कहा, भारतीय वैक्‍सीन पूर्ण सुरक्षित

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश के राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ अजय घई ने कहा है कि टीकाकरण में लाभार्थियों की संख्‍या बढ़ाने की जरूरत है। प्रदेश में कोविड टीकाकरण का ग्राफ बढ़ाने के लिए एक खास रणनीति पर भी कार्य हो रहा है।

डॉ घई ने यह जानकारी आज 17 फरवरी को होटल फॉर्च्‍यून में सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफार) के सहयोग से आयोजित राज्यस्तरीय मीडिया कार्यशाला में देते हुए बताया कि नई रणनीति के तहत अब फ्रंट लाइन कर्मियों को पात्र लोगों की सूची दी जाएगी ताकि वह पात्र लाभार्थी से संपर्क कर सकें। इसके साथ ही टीका लगवाने के लिए पात्र लोगों को कोविड कमांड सेंटर्स से भी एसएमएस भेजा जाएगा। उन्होने बताया कि फिर भी यदि किसी को एसएमएस नहीं मिला है तो वह अपने जिले के किसी भी सत्र में जाकर अपना फोन नंबर देकर टीका लगवा सकता है।

उन्‍होंने कहा कि इस बीच यदि किसी कर्मचारी की तैनाती अन्य जिले में हो जाती है तो उनके लिए इंटर डिस्ट्रिक्ट पोर्टेबिलिटी सिस्टम के जरिये उनको टीका से प्रतिरक्षित किया जाएगा। उन्होने बताया कि यूपी के कुछ जिलों में कोविड टीकाकरण करीब 90 प्रतिशत हुआ है वहीं कहीं पर यह आंकड़ा 16 प्रतिशत ही है। नेटवर्क समस्या, पात्र लोगों के नाम एक मोबाइल नंबर पर ही फीड होने और सर्वर धीमा चलने आदि से टीकाकरण का ग्राफ बहुत उत्साहजनक नहीं है। उम्मीद है कि अगले सत्र में इसके सकारात्मक परिणाम दिखेंगे। इसके लिए कई दिशा में प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होने बताया कि टीकाकरण के लिए कई ऐसे लोग भी पंजीकृत हैं जो कि पात्र नहीं हैं, जैसे कि गर्भवती, धात्री महिलाएं आदि।

डॉ घई ने कहा कि हमारी वैक्सीन से अभी तक किसी भी तरह के बड़े दुष्प्रभाव की बात सामने नहीं आई है। उन्होंने बताया कि 18 फरवरी को फ्रंट लाइन कर्मियों को टीका लगेगा। 50 वर्ष से अधिक आयु वर्ग को भी यह टीका अगले माह से लगना शुरू हो जायेगा।

उन्होने बताया कि फिलहाल कोरोना का संक्रमण सरकार और जनसहयोग से कम तो हुआ है लेकिन कई देशों में अब भी यह संक्रमण उच्चस्तर पर है। ऐसे में इस वैश्विक महामारी से बचने के लिए हम सभी को और सावधान होने की जरूरत है। उन्होने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के पास कई ऐसे लोगों की टीका लगवाने की सिफ़ारिश आ रही है जिनकी अभी बारी ही नहीं है लेकिन वह जल्द से कोविड टीका से प्रतिरक्षित होना चाहते हैं। उन्होने अपील की है कि बिना किसी लापरवाही के नियत दिवस पर टीका लगवाएं। टीका लगने के बाद यदि कोई प्रतिकूल प्रभाव दिखता है तो कोविड-19 कंट्रोल रूम के हेल्प-लाइन नंबर 05498-220827 या प्रदेश हेल्प लाइन नंबर 104 पर सम्पर्क करें।

इस मौके पर यूएनडीपी डॉ अहमद अब्बास आगा और यूनिसेफ के डॉ प्रफुल्‍ल भारद्वाज ने टीकाकरण पर सवालों के जवाब दिये। डॉ प्रफुल्‍ल ने कहा कि आने वाले चरणों में बड़ी मात्रा में वैक्‍सीनेशन के रखरखाव की व्‍यवस्‍था कर ली गयी हैं।