…ताकि मरीजों को आजादी मिल सके महंगी दवाओं से

 

केजीएमयू में स्‍वतंत्रता दिवस की 71वीं वर्षगांठ समारोह में कुलपति ने की अपील

लखनऊ। किंग जार्ज चिकित्सा विश्‍वविद्यालय में आज 15 अगस्त को स्वतन्त्रता दिवस की 71वीं वर्षगाठ मनाई गई। इस अवसर पर केजीएमयू के प्रांगण में विश्‍वविद्यालय के कुलपति प्रो0 मदन लाल ब्रहम् भटट् ने शिक्षकों-चिकित्सकों, अधिकारियों, छात्रों एवं कर्मचारियों के मध्य ध्वाजारोहरण किया। पारम्‍परिक रूप से आयोजित इस समारोह में कुलपति ने आज जो बातें की इसमें एक विषय अत्‍यन्‍त महत्‍वपूर्ण रहा, और वह है ‘आजादी महंगी दवाओं से’। कुलपति ने समस्त चिकित्सकों, छात्रों, कर्मचारियों को 72वें गणतन्त्र दिवस की बधाई देते हुए विश्‍वविद्यालय तथा देश की उन्नति के लिए पूर्ण तन्मयता के साथ कार्य में संलिप्‍त रहने का आह्वान किया तथा विश्‍वविद्यालय के चिकित्सकों एवं मरीजों से सम्‍बद्ध अन्य स्‍टाफ को मरीजों पर न्यूनतम आर्थिक भार डालने का अनुरोध करते हुए चिकित्सकों को जैनरिक औषधियों को लिखने तथा अधिकाधिक औषधियों को अमृत फार्मेसी से उपलब्ध कराने जाने की व्यवस्था को सुनिश्चित करने का अनुरोध किया।

 

उपलब्धियां गिनायीं

इस अवसर पर कुलपति द्वारा विगत वर्षो में चिकित्सा विश्‍वविद्यालय द्वारा चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में प्राप्त की गई उपलब्धियों के सन्दर्भ में संक्षेप स्वरूप आमजनमानस को अवगत कराया गया। चिकित्सा विश्‍वविद्यालय को चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में राष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा प्रदान की गई श्रेणियों का उल्लेख करते हुए अवगत कराया गया कि विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा नैक के माध्यम से किये गये सर्वेक्षण में चिकित्सा विश्‍वविद्यालय को 5वां स्थान प्रदान किया गया है जबकि विश्‍व विद्यालय अनुदान आयोग तथा मानव श्रम मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा किये गये टीचिंग लर्निंग रीर्सोसेज के सर्वेक्षण में चिकित्सा विश्‍वविद्यालय को सर्वक्षेष्ठ टीचिंग लर्निंग रिर्सोसेज़ संस्थान घोषित किया गया है जो कि इस संस्थान के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। चिकित्सा विश्‍वविद्यालय के वायरोलॉजी एवं क्लीनिकल पैथोलॉजी को इनकी गुणवत्तापरक अन्वेषण हेतु एनएबीएल का प्रत्यायन प्रदान किया गया है।

जल्‍दी शुरू होगी कैशलेस स्‍कीम

कुलपति ने कहा कि किंग जार्ज चिकित्सा विश्‍वविद्यालय द्वारा आम जनमानस की सुविधा के लिए पूर्व से ट्रामा सेन्टर में प्रारभिक 24 घण्टे के उपचार के दौरान समस्त चिकित्सा निःशुल्क प्रदान की जा रही है तथा इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए मरीजों द्वारा अपने उपचार के लिए बनवाये जा रहे ओपीडी पर्चे को भी निःशुल्क कर दिया गया है इसके अतिरिक्त शीघ्र ही चिकित्सा विश्‍वविद्यालय में मुद्रा के भौतिक आदान-प्रदान को रोकने के लिए तथा मरीजों की परेशानियों को कम करने के दृष्टिगत शीघ्र ही कैशलेस स्कीम प्रारम्भ होने जा रही है। कुलपति द्वारा अपने उद्बोधन में भारत सरकार की महात्वाकांक्षी स्वास्थ्य योजना आयुष्मान भारत की प्रशंसा करते इस योजना को आम जनमानस के स्वास्थ्य की सुरक्षा की दृष्टि से अत्यन्त ही महत्वपूर्ण बताया गया।

 

मरीजों के हित में हड़ताल न करने का किया आह्वान

कुलपति ने अपने उद्बोधन में मरीजों की चिकित्सा व्यवस्था को बाधित करने वाले कारकों का उल्लेख करते हुए चिकित्सा विश्‍वविद्यालय के चिकित्सकों, छात्रों एवं कर्मचारियों से किसी भी परिस्थितियो मे हड़ताल न करने का आह्वान किया। अपने उपरोक्त उद्बोधन के अन्त में कुलपति, किंग जार्ज चिकित्सा विश्‍वविद्यालय द्वारा चिकित्सा विश्‍वविद्यालय के समस्त चिकित्सकों, छात्रों, कर्मचारियों को 72वें स्वतन्त्रता दिवस की बधाई देते हुए विश्‍वविद्यालय तथा देश की उन्नति हेतु पूर्ण तन्मयता के साथ कार्य में संलिप्‍त रहने का आह्वान किया।