Monday , November 28 2022

5 अगस्‍त से चल रहे शिविर में अब तक 17 बच्‍चों के होठों पर आ चुकी है स्‍माइल

-आरबीएसके योजना में हो रहा जन्मजात कटे होंठ व तालू वाले बच्चों का मुफ्त इलाज

-स्‍माइल ट्रेन प्रोजेक्‍ट के तहत हेल्‍थ सिटी हॉस्पिटल में अब तक 69 पंजीकरण, 31 अगस्त तक चलेगा रजिस्‍ट्रेशन

मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी डॉ मनोज अग्रवाल और वरिष्‍ठ प्‍लास्टिक सर्जन डॉ वैभव खन्‍ना

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) के अन्तर्गत जन्मजात कटे होंठ व तालू वाले बच्चों का निःशुल्क पंजीकरण स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट के तहत किया जा रहा है। इसके लिए 31 अगस्त तक  हेल्थ सिटी ट्रामा सेन्टर एवं सुपर स्पेशियलि‍टी हॉस्पिटल द्वारा शिविर का आयोजन  किया जा रहा है।

यह जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ मनोज अग्रवाल ने बताया कि शिविर में पंजीकृत बच्चों का सम्पूर्ण इलाज पूर्णतया निःशुल्क किया जा रहा है। अभी तक लखनऊ, बाराबंकी, हरदोई, उन्नाव, अमेठी, फर्रूखाबाद, लखीमपुरी खीरी, सीतापुर, अम्बेडकर नगर, आजमगढ़, शाहजहांपुर, बरेली, बलरामपुर आदि शहरों के 69 बच्चों का पंजीकरण किया जा चुका है।

हेल्थ सिटी ट्रॉमा सेन्टर एवं सुपरस्पेशियलि‍टी हॉस्पिटल के प्लास्टिक सर्जन एवं स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट के प्रोजेक्ट डायरेक्टर डॉ वैभव खन्ना ने बताया – अभी तक पंजीकृत बच्चों  में से 17 बच्चों का सफल ऑपरेशन किया जा चुका है। इसके साथ ही लखनऊ के अलावा अन्य जिलों से भी सभी पीड़ित निःशुल्क इलाज के लिए इस शिविर में निःशुल्क पंजीकरण करवा सकते हैं। 5 अगस्त से शुरू हुई पंजीकरण की प्रक्रिया 31 अगस्त तक जारी रहेगी। अधिक जानकारी के लिए स्माइल ट्रेन संस्था के प्रतिनिधि नीरज कुमार शर्मा के मोबाइल नं. 9454159999, 9565437056  पर संपर्क किया जा सकता है। यह सुविधा प्रत्येक दिन व निरन्तर जारी रहेगी।  

डॉ खन्ना ने बताया- “स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट” के तहत जन्मजात कटे होठ व तालू की समस्या का समाधान पूर्णतया निशुल्क किया जाता है। इसलिए इस बात को पूरे प्रदेश में प्रसारित करने की आवश्यकता है। कई बच्चों के होठ व तालू जन्मजात कटे होते हैं। पूर्ण रूप से स्वस्थ बच्चे की मुस्कान ही उसका आत्मविश्वास जगाती है।  जन्मजात कटे होठ व तालू की समस्या लगभग 3000 से 5000 जीवित शिशुओं में से एक को हो सकती है। यह होठ के दोनो तरफ अथवा एक ही तरफ सम्भव है। सामान्यतः तालू के साथ होठ भी कटा होता है परन्तु कभी-कभी अकेले तालू के कटे होने की सम्भावना भी रहती है। इसके कारणों में किसी भी चीज की स्पष्ट भूमिका अभी तक नहीं प्रमाणित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twenty − 6 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.