संजय गांधी पीजीआई ने की ऐसी बात, रेजीडेंट डॉक्‍टर रह सके जीवन साथी के साथ

-दो कमरे के सेट वाले आवास के मेरिड हॉस्‍टल का हुआ लोकार्पण  

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान लखनऊ में चिकित्‍सा की उच्‍च शिक्षा ग्रहण करने आने वाले विवाहित विद्यार्थियों (जेआर-एसआर) को अपने जीवनसाथी के साथ रहने के लिए बड़ी सुविधा देते हुए दो कमरे के सेट वाले आवास की सुविधा उपलब्‍ध करायी गयी है, इन आवासों के लिए बने मेरिड डॉक्‍टर हॉस्‍टल के ए और बी ब्‍लॉक का आज उत्‍तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा, वित्त और संसदीय कार्य विभाग मंत्री सुरेश खन्‍ना ने लोकार्पण किया।

इस अवसर पर संबोधित करते हुए मंत्री सुरेश खन्‍ना ने कहा कि संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान उत्कृष्ट स्तर की चिकित्सा सुविधाएं प्रदान कर रहा है और साथ ही विशिष्ट चिकित्सकों को भी तैयार कर रहा है। उन्होंने कहा कि संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान में हम सभी का सदैव से विश्वास रहा है और इस संस्थान ने सदैव ही उस विश्वास को पुष्ट किया है। उन्होंने संस्थान द्वारा Medical Ethics पर प्रारंभ की गई व्याख्यान श्रंखला की भूरि-भूरि प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि संस्थान के डायरेक्टर से लेकर सभी फैकल्टी मेंबर का लक्ष्य होना चाहिए कि किसी भी रेफरल या गंभीर मरीज को एडमिट करने से मना न किया जाए। उन्होंने कहा कि मरीजों के साथ अच्छा व्यवहार किया जाना चाहिए।

श्री खन्ना ने कहा कि परिसर में आवासों के उपलब्ध होने से डॉक्टर्स की रोगियों की देखभाल करने में न केवल समय की बचत होगी अपितु आकस्मिकता की स्थिति में चिकित्सक रोगी तक शीघ्र पहुंच सकेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास है कि संस्थान में बेड की संख्या के साथ-साथ अन्य सभी सुविधाओं को और अधिक बेहतर किया जाए।

ज्ञात हो इस सुविधा के निर्माण कार्य का शासनादेश 2015 सितंबर में स्वीकृत किया गया था। अगस्त माह 2020 में 49 आवासों के पूर्ण होने के उपरांत कोविड-19 संक्रमण में रोगी सेवा में कार्यरत स्वास्थ्य कर्मियों को आकस्मिकता की स्थिति में आवंटित किया गया। वर्तमान समय में 101 आवास उपयोग के लिए उपलब्ध हैं, जिनका आज लोकार्पण किया गया। शेष 99 आवास दिसंबर 2020 तक पूर्ण किए जाने का लक्ष्य है। भवन के पूर्ण होने के पश्चात पार्किंग क्षेत्र, केयर टेकर रूम, स्टोर रूम सहित विवाहित चिकित्सकों के लिए प्रथम तल से 10वें तल तक कुल 200 आवास (2 room set ) उपलब्ध होंगे। इन आवासों को संस्थान द्वारा चयनित विभिन्न विभागों में कार्यरत जूनियर रेजिडेंट डॉक्टर्स और सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर को आवंटित किया जाएगा।

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश सरकार के चिकित्सा शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ रजनीश दुबे, सांसद, मोहनलालगंज कौशल किशोर, राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार, उत्तर प्रदेश स्वाति सिंह, राज्य मंत्री, चिकित्सा शिक्षा, उत्तर प्रदेश संदीप सिंह भी उपस्थित थे। संस्थान के निदेशक प्रोफेसर आरके धीमन ने उपस्थित अतिथियों का हार्दिक स्वागत किया। कार्यक्रम का समापन प्रोफेसर आदित्य कपूर द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव ज्ञापित करने के साथ हुआ।